उत्तरकाशी : स्वामी विवेकानंद की जयंती तथा युवा दिवस पर किया वृक्षारोपण 

 

 

  • संतोष साह

 

स्वामी विवेकानंद की 159वीं जयंती पर गंगा विश्व धरोहर मंच एवं नमामि गंगे परियोजना नेहरू युवा केन्द्र उत्तरकाशी के संयुक्त तत्वावधान में नीम, बेलपत्र, अकरकरा, मदार आदि पौधों का रोपण किया गया। उत्तरकाशी शहर में घर के आस-पास सफल वृक्षारोपण व त्रिवेणी कार्यक्रम में पंचकोसी यात्रा के पड़ाव विमलेश्वर, गंगोरी, वरूणेश्वर, व ज्ञाणजा में नीम, पीपल तथा वरगद के अनेकों पौधों के रोपण हेतु शासकीय अधिवक्ता हिमांशु शेखर जोशी व शिक्षिका संगीता जोशी को शाल भेंट व पुष्पमाला द्वारा सम्मानित किया गया। इस अवसर पर गंगा विश्व धरोहर मंच के संयोजक डाॅ. शम्भू प्रसाद नौटियाल ने कहा कि स्वामी विवेकानंद युवाओं के प्रेरणास्त्रोत थे और इसलिए उनकी जयंती देश में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में भी मनाई जाती है। स्वामी विवेकानंद के विचार बहुत प्रेरणादायक हैं, खासकर युवाओं के लिए स्वामी विवेकानंद के विचार काफी मायने रखते

हैं। नेहरू युवा केन्द्र के परियोजना अधिकारी उत्तम पंवार ने कहा कि भारत में, स्वामी विवेकानंद की जयंती के उपलक्ष्य में प्रतिवर्ष 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है। इससे यह सुनिश्चित करना है कि देश भर के छात्रों को स्वामी विवेकानंद के जीवन, विचारों और दर्शन के बारे में जानने और उन्हें अपने जीवन में लागू करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके। उन्होंने कहा कि इस वर्ष राष्ट्रीय युवा दिवस 2022 की थीम– “सक्षम युवा- सशक्त युवा ” है। गंगा विश्व धरोहर मंच के संरक्षक सुभाष चन्द्र नौटियाल ने कहा कि युवा दिवस देश के युवाओं को समर्पित एक ऐसा दिन है जो देश की उन्नति और विकास में योगदान तथा उनकी भागीदारी को दर्शाता है।समाजसेवी यशपाल वशिष्ठ ने कहा युवाओं को समस्याओं से डरकर भागने के बजाए दृढ़ता से उसका मुकाबला करना चाहिए।

डाॅ. तिलक राम प्रजापति ने कहा कि स्वामी विवेकानंद का जन्म ब्रिटिश शासनकाल के दौरान 12 जनवरी 1863 को कोलकाता में हुआ। स्वामी विवेकानंद जी की प्रेरणा और भगनी निवेदिता के प्रयासों से जगदीश चन्द्र बसु ने यह सिद्ध किया की पेड़ श्वास लेते एवं संवेदना होती है। इस अवसर पर यूथ सदस्य रोहित कुमार, सचिन रावत, अजयपाल, साक्षी भट्ट, प्रज्ञा जोशी एवं शिक्षक विनोद शर्मा आदि उपस्थित थे।