उत्तरकाशी : रामलीला मैदान में मशीन पालिका ने पहुंचाई, सफाई पालिका ने कराई और अब पालिका ही मैदान का सौन्दर्यकरण करने की तैयारी में है : रमेश सेमवाल

 

  • संतोष साह

 

उत्तरकाशी के ऐतिहासिक मैदान में क्या कुछ हो रहा है और क्या कुछ होने जा रहा है इस पर आज नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष रमेश सेमवाल ने मीडिया के समक्ष अपनी सफाई दी। पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने स्पष्ट किया कि पालिकाध्यक्ष बनने पर उनके मैनिफेस्टो में रामलीला मैदान के सौंदर्यीकरण किये जाने को लेकर सर्वोच्च प्राथमिकता थी जिसका अब समय आ गया है। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ रोज पूर्व रामलीला मैदान के सौंदर्यीकरण की कार्यवाही को लेकर वहां से पार्किंग समेत ठेली-खोमचे वगैरह हटाये गए। तदोपरांत पालिका की ओर से मैदान में मशीन आदि भिजवाकर वहां की सफाई से लेकर उसका समतलीकरण कराया गया है। नालियों की सफाई कराई जा रही है। पालिकाध्यक्ष ने कहा कि पालिका की जिम्मेदारी नगर के सौंदर्यीकरण को लेकर बनती है लिहाजा मैदान के सौंदर्यीकरण को लेकर इसकी निविदा आमंत्रित कर दी गई है। उन्होंने कहा कि मैदान में जिन लोगों की पालिका की ओर से जारी वैध टोकन या लाइसेंस को लेकर ठेली आदि थी उनकी व्यवस्था बनाने के लिये प्रशासन से बातचीत चल रही है और कहीं न कहीं उसकी व्यवस्था बनाई जाएगी। पार्किंग को लेकर उन्होंने प्रशासन से जगह उपलब्ध कराने का भी अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि निकट भविष्य में बस अड्डे के पीछे भी पार्किंग के स्थान निकलेंगे। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे वाहन मैदान की ओर लाने का प्रयास न करें ताकि बस अड्डे की ओर जाम की स्थिति पैदा न हो। उन्होंने मैदान में हरी घास लगाने के दौरान बस अड्डे की ओर से निकले रास्ते को पूरी तरह से बंद करने की बात कही जबकि लोगों की आवाजाही के लिये रास्ता छोड़े जाने की भी बात कही।

 

पालिकाध्यक्ष ने कहा कि यह मैदान नगर का हृदय है। इसमे खेल,सांस्कृतिक,धार्मिक गतिविधियां होती रही हैं। 2003 बरुणावत भूस्खलन के बाद मैदान के हालात बिगड़े और बिगड़ते चले गए। जिस को पिछले पालिका बोर्डों ने भी नजरअंदाज किया। उनके इसी सवाल पर जब यह जानना चाहा कि मौजूदा बोर्ड जब मैदान के सौंदर्यीकरण को लेकर आगे आया है तो बीच मे संघर्ष की आवाज कैसे सुनाई दे रही है। एक सवाल यह भी उठा कि पिछले 15 से 20 वर्षो में मैदान की बदहाली को लेकर आवाज अखबारों,मीडिया में तो उठी मगर संघर्ष कहीं नहीं दिखाई दिया। बहरहाल इसके कोई जवाब तो मिले नहीं लेकिन पालिकाध्यक्ष का यह जरूर कहना था कि मैदान के हालात और उस पर कार्य पालिका ही कर सकती है। उन्होंने उम्मीद जाहिर की मैदान के सौंदर्यीकरण में जनता का उनको सहयोग जरूर मिलेगा ताकि यह मैदान अपनी पुरानी याद के लिये ताजा हो,इसमे खेल,सांस्कृतिक,धार्मिक सभी तरह की गतिविधियां हों।

मीडिया से बातचीत के दौरान सभासद सविता भट्ट,गीता रावत,कविता जोगेला,देवराज बिष्ट,महावीर चौहान,गोविंद सिंह गुंसाई आदि भी मौजूद थे।

You may have missed