लोक सेवक का काम सुपरविजन का है न की ठेकेदारी का, अब गांव के विकास के धन की चौकीदारी कौन करेगा

  • संतोष साह

पिथौरागढ के जिला पंचायत सदस्य जगत मरतोलिया ने पंचायत प्रतिनिधि भी ठेकेदारी कर सकेंगे के कैबिनेट फैसले पर कड़ी आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा है की लोक सेवक का काम सुपर विज न करना है न की ठेकेदारी लेकिन उसे वैधानिक रूप से ठेकेदा र बना देंगे तो गाँव के विकास के धन की चौकी दारी कौन करेगा ? उन्होंने कहा कि जिला पंचायत सदस्य इस फ़ैसले के खिलाफ पहले प्रधा न मंत्री को पत्र लिखकर रोक लगाने की मांग करेंगे फिर कोर्ट मे भी जाएंगे।

जिला पंचायत सदस्य ने यह भी कहा कि सीएम ने पंचायत प्रतिनिधियों को ठेकेदारी करने की खुली छूट दे दी है इसके लिए बाकायदा पंचायत एक्ट में संसोधन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि लोक सेवक को अगर ठेकेदार बना देंगे तो फिर क्या होगा? उनका यह भी तर्क है कि आज भी पंचायतों मे बैठे 90 प्रतिशत प्रतिनिधि ठेकेदारी का कार्य परिवार के अन्य सदस्यों के नाम से करते है जबकि त्रिस्तरीय पंचायत संगठन ने पंचायत एक्ट मे संसोधन कर पंचायत प्रतिनिधि यों के परिवार सहित सगे संबंधी पर भी ठेकेदारी करने पर रोक लगाने की मांग की थी।

उन्होंने साफ कहा कि लोक सेवकों के अभी अप्रत्यक्ष रूप से ठेकेदारी करने से विकास के हर मद मे 50 प्रतिशत बजट ही धरातल मे पहुँच पाता है। लिहाजा इस फैसले के बाद जनता के चुने हुए प्रतिनिधि ठेकेदार के रूप मे नजर आएंगे तो पंचायत की राजनीति रसातल मे पहुँच जाएगी।

Leave a Reply

You may have missed