4 माह से तहसील के चक्कर काटने के बावजूद एक आपदा प्रभावित को छत तो दूर एक रुपये का मुआवजा तक नहीं मिला

  • संतोष साह

कुमाऊं आयुक्त अरविंद ह्यांकी के आदेश के बावजूद भी एक आपदा प्रभावित परिवार पिछले चार माह से तहसील के चक्कर काट रहा है मगर उसे न तो अब तक फूटी कौड़ी मिली और न ही रहने के लिये छत। गौरतलब है कि अब से चार माह पूर्व पिथौरागढ़ के दरांती गांव में आई आपदा से भूपाल राम पुत्र रतन राम का आवासीय भवन ध्वस्त हो गया था।

18 जून की यह घटना है। आवास ध्वस्त होने की सूचना 22 जून को तहसीलदार को लिखित रूप से दे दी गई थी। तब से आज तक इस परिवार को पटवारी से लेकर अधिकारी सिर्फ टहला रहे है। इधर आज से दो माह पूर्व कुमांऊ आयुक्त की बैठक में इलाके के जिला पंचायत सदस्य व त्रिस्तरीय पंचायत संगठन के प्रदेश अध्यक्ष जगत मर्तोलिया ने इस परिवार को मुआवजा नही दिए जाने का मामला उठाया था।

जिस पर आयुक्त ने तहसीलदार को तत्काल मुआवजा देने के आदेश दिए थे। मगर उसके बाद भी आज तक प्रभावित परिवार को कोई मुआवजा नही मिला। उधर आज जिला पंचायत सदस्य ने पीड़ित परिवार की महिला देवकी देवी के साथ प्रभारी तहसीलदार से मुलाकात की और बताया कि एक पात्र आपदा प्रभावित को मुआवजे से वंचित किया जाना सरासर गलत है। इसके लिये अब मुनस्यारी से देहरादून तक मामले को लेकर आंदोलन किया जाएगा।

Leave a Reply

You may have missed