उत्तरकाशी : स्नो लेपर्ड संरक्षण केंद्र गंगोत्री विधानसभा के खाते में,विधायक गोपाल ने किया मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र, मंत्री हरक का आभार व्यक्त

  • संतोष साह

उत्तरकाशी में गंगोत्री विधानसभा को वाइल्ड लाइफ संरक्षण के लिये भी सौगात मिली है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा स्नो लेपर्ड(हिम तेंदुए) के देश के पहले संरक्षण केंद्र को गंगोत्री धाम के नजदीकी भैरोघाटी(लंका) में बनाये जाने की घोषणा पर गंगोत्री विधायक गोपाल रावत ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का तहदील से आभार व्यक्त किया है।

उन्होंने इसके लिये प्रदेश के वन मंत्री का भी आभार व्यक्त किया है। विधायक ने कहा कि जिले में देश के पहले हिम तेंदुए के संरक्षण केंद्र बनाए जाने से अब भैरोघाटी विधानसभा गंगोत्री का नाम देश व विदेश में जाना जाएगा। विधायक ने कहा कि मुख्यमंत्री ने जिले को यह बहुत बड़ी सौगात दी है। विधायक ने कहा कि इससे गंगोत्री हिमालय में पाए जाने वाले दुर्लभ हिम तेंदुए का संरक्षण भी होगा साथ ही इससे विंटर पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा।

गौरतलब है कि उत्तरकाशी के भैरोघाटी में 5 50 करोड़ की लागत से देश का पहला स्नो लेपर्ड संरक्षण केंद बनेगा। मुख्यमंत्री ने इसकी वन मंत्री ए वन महकमे के साथ हुई बैठक में घोषणा की। 2017 में हिमालय सिक्योर परियोजना जो शुरू की गई थी उसके बाद भारतीय वन्य जीव संस्थान द्वारा किये वन्य जीव संरक्षण को लेकर सरकार ने इस केंद्र को बनाने के लिये भैरबघाटी को चुना।

भैरव घाटी में केंद्र बन जाने के बाद हिम तेंदुओं की गणना भी हो सकेगी। उल्लेखनीय है कि गंगोत्री नेशनल पार्क में समय-समय पर फुटेज देखने को मिले हैं जिससे साफ पता चलता है कि गंगोत्री हिमालय में भी हिम तेंदुए विचरते है हालांकि उनकी काउंटिंग नही हुई है लेकिन हिम तेंदुआ संरक्षण केंद्र बन जाने से गंगोत्री हिमालय में भी इनकी संख्या का पता चल सकेगा। क्योंकि प्रदेश में अब तक अनुमान के तहत 86 स्नो लेपर्ड होने की बात की जाती है।

Leave a Reply

You may have missed