उत्तरकाशी : गढ़वाली बोली में रामलीला ! रावण-अंगद का हुआ सवांद,मुख्य अतिथि पालिकाध्यक्ष सेमवाल के साथ सभासद पहुंचे

 

 

  • संतोष साह

 

 

श्री आदर्श रामलीला समिति उत्तरकाशी द्वारा आयोजित गढ़वाली बोली रामलीला मंचन में12 वें दिन रावण-अंगद सवांद,विभीषण-रावण सवांद प्रमुख सीन रहा। इसके अलावा लीला में रामेश्वरम पूजन व मेघनाद युद्ध के लिये जाने को तैयारी भी हुई। इस बीच आदर्श रामलीला समिति के द्वारा बनी परंपरा के तहत लीला में मुख्य अतिथियों को आमंत्रण और उनके सम्मान के तहत लीला में बतौर मुख्य अतिथि पालिकाध्यक्ष रमेश सेमवाल पहुंचे जिनके साथ पालिका के सभासद भी शामिल हुए।समिति द्वारा लीला में पहुंचने पर उनका सम्मान किया गया। अपने संबोधन में पालिकाध्यक्ष ने भगवान राम के बारे में उनके जीवन व आदर्शों का जिक्र किया। उन्होंने अपनी भाषा मे लीला मंचन की भी तारीफ की।

 

उधर गढ़वाली बोली में रामलीला में अब खासी भीड़ जुट रही है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी रामलीला का लोग श्रवण कर रहे हैं साथ ही लोगों को पहली बार गढ़वाली बोली में रामलीला भा रही है और इस कार्य की प्रशंसा भी हो रही है।

इधर आदर्श रामलीला समिति द्वारा आयोजित प्रथम गढ़वाली रामलीला में रामलीला मंचन से लेकर आयोजन में सहयोग करने वालों में समिति के उमेश बहुगुणा,जयेन्द्र पंवार,दिनेश नौटियाल ब्रह्मानंद नौटियाल, विजय भट्ट,केशर सजवाण, राजाराम भट्ट, तस्दीक खान,माधव नौटियाल ,अनिल सेमवाल,रमेश चौहान,गजेन्द्र सिंह मटूड़ा,पुष्पा बहुगुणा,रेखा,जलमा राणा,अमर पाल रमोला, अरविंद राणा,शिव प्रसाद भट्ट ,चन्द्र मोहन सिंह पंवार,रुकम चंद, विक्रम शाह,प्रताप सिंह रावत,कैलाश सेमवाल,शांति प्रसाद भट्ट,महेंद्र पंवार, उषा चौहान, अनीता राणा,मंगल सिंह,बंटी उप्पल, नौबर सिंह कठेथ,किरन पंवार सहित अन्य शामिल हैं।

You may have missed