उत्तरकाशी : जल जीवन मिशन में ठेकेदारी प्रथा के खिलाफ ग्राम प्रधानों ने धरना देकर विरोध दर्ज किया

  • संतोष साह

ग्राम प्रधानों ने आज जिलाध्यक्ष व प्रदेश महामंत्री प्रताप रावत के नेतृत्व में मुख्य विकास अधिकारी कार्यालय के समक्ष धरना देकर जल जीवन मिशन का कार्य टेंडर व ठेकेदारी के तहत कराये जाने का विरोध किया। प्रधानों ने जमकर नारेबाजी भी की। इस सिलसिले में ग्राम प्रधान संगठन की ओर से मुख्यमंत्री को भी ज्ञापन भेजा गया।
प्रधान जल जीवन मिशन के कार्यों को ग्रामों में ग्राम पंचायत के द्वारा कराए जाने की मांग कर रहे हैं। प्रधानों की मांग है कि कार्य स्वजल तकनीक से कराया जाय और उसमे ग्राम पंचायत को जिम्मेदारी सौंपी जाय ताकि योजना के बन जाने के बाद ग्राम पंचायत उसके रख रखाव की जिम्मेदारी भी संभाल सके। प्रधान संगठन का यह भी कहना है कि कोरोना संकट में बेरोजगारी से आर्थिक स्थिति पर भी फर्क पड़ा है। गांव में प्रवासियों का भी रिवर्स पलायन हुआ है। उन्हें भी गांव में रोजगार व कार्य चाहिए। ऐसे में अगर गांव की योजना को गांव के माध्यम से न कर अन्य एजेंसी से कराया जाता है तो ग्रामीण इसके लाभ से वंचित हो जाएंगे। लिहाजा जल जीवन मिशन के कार्यों की सुपुर्दगी पंचायत के हवाले हो।
उधर धरना देकर विरोध करने वालों में ग्राम प्रधान निसमोर,चिणाखोली,ज्ञानजा,कंसेंण,लाटा, मल्ला,पाटा,साल्ड,कंवा,सेंज,गणेशपुर,अठाली,थलन,बग्याल गांव,पोखरी,नेताला,धनपुर,बयाना, कुरोली,धनपुर,सेंज,अगोडा,पोखरी,किशनपुर,बसूँगा,दिलसौड़,साडा समेत कई अन्य गांवों के ग्राम प्रधान शामिल थे।

Leave a Reply

You may have missed