पृथक यमुनोत्री जिले की मांग का समर्थन,आंदोलनकारियों के बीच समर्थन देने पहुंचे पूर्व दर्जाधारी राज्य मंत्री नौटियाल

 

 

बीते 1 नवंबर से यमुनोत्री को पृथक जिला बनाए जाने की मांग को लेकर बड़कोट में यमुनोत्री पृथक जनपद संघर्ष समिति रवांई के बैनर तले आंदोलनरत भूख हड़ताल पर बैठे भाटिया गांव निवासी वासवानंद डिमरी व अन्य लोगों को समर्थन देने आज शनिवार को साथियों के साथ पूर्व दर्जाधारी राज्य मंत्री रामसुंदर नौटियाल बड़कोट पहुंचे जहां उन्होंने कहा कि उत्तरकाशी जनपद क्षेत्रफल के लिहाज से राज्य का सर्वाधिक बड़ा जनपद है और भौगोलिक परिस्थितियों को देखते हुए इसे गंगा व यमुना क्षेत्र में बंटना चाहिए। यमुनोत्री जनपद का निर्माण यमुना घाटी के हित में है और इसका समर्थन किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिला मुख्यालय तक पहुंचने से ज्यादा आसान यमुना घाटी के ग्रामीणों के लिए राज्य की राजधानी पहुंचना है और क्षेत्र की विषमता को देखते हुए जिले की प्रशासनिक ईकाई की स्थापना यहां किया जाना नितांत आवश्यक है। श्री नौटियाल ने कहा कि एक पत्रकार के रूप में तीन दशक लंबे कार्यकाल में और पार्टी के प्रतिनिधि के तौर पर वे हमेशा उत्तरकाशी जनपद में यमुना घाटी को अलग जनपद बनाने का हिमायती रहे हैं।

उन्होंने इस मौके पर यमुनोत्री पृथक जनपद संघर्ष समिति रवांई के केंद्रीय अध्यक्ष अबल चंद कुमांई,महिपाल असवाल संयोजक,भरत सिंह चौहान जनपदीय अध्यक्ष, पत्रकार विजेन्द्र रावत, किशन सिंह राणा, सत्यप्रसाद नौटियाल, विकास मैठाणी, सौरभ राणा, मोहन प्रसाद डोभाल, अमित असवाल, विजेन्द्र पंवार, भगत सिंह चौहान समेत अन्य उन्हें सम्मान देने के लिये तहदिल से आभार व्यक्त किया।

 

ADVT

You may have missed