उत्तरकाशी : पालिकाध्यक्ष ने कहा रामलीला मैदान की दुर्दशा के लिये पिछले बोर्ड जिम्मेदार,अब मैदान की बेहतरी के लिये की पालिका को सहयोग की अपील

 

  • संतोष साह

 

नगर पालिका अध्यक्ष रमेश सेमवाल ने कहा है कि रामलीला मैदान को लेकर पिछले ढाई वर्षों से उनके द्वारा जिला प्रशासन व राज्य सरकार के समक्ष कई बार बैठक की जा चुकी है तो वही रामलीला मैदान व कूड़े की समस्या को लेकर उत्तरकाशी नगर के बुद्धिजीवी, वरिष्ठ नागरिकों के साथ बैठक बुलाकर उनसे मैदान के सौन्दर्यकरण को लेकर उनकी राय भी मांगी गयी। मौजूदा मैदान के हालात और अब उस के सौंदर्यीकरण को लेकर जब पालिका अध्यक्ष से बातचीत की तो उनका कहना था कि उन्होंने बाड़ाहाट नगर पालिका अध्यक्ष पद की शपथ 2 दिसम्बर 2018 को इसी रामलीला मैदान में ली थी। जिसके पांच माह पश्चात अप्रैल 2019 में कोरोना महामारी से सम्पूर्ण भारत मे विकास कार्य पूर्ण रूप से बाधित हो गये थे। लगभग 2 वर्ष का समय इस महामारी के रोकथाम में प्रदेश व जनपद के प्रतिनिधियों को देना पड़ा, जो विकास कार्य से कई अधिक महत्वपूर्ण था। उन्होंने रामलीला मैदान को लेकर फरवरी 2019 में पूर्व जिलाप्रशासन के साथ बैठक की जिसमें उनके द्वारा जिला प्रशासन को इत्तला किया गया कि रामलीला मैदान को सिर्फ सांस्कृतिक व खेल गतिविधियों के लिए ही रखा जाना चाहिए। जिसके बाद रामलीला मैदान के सब्जी मंडी से लगे हुए गेट को पालिका प्रशासन द्वारा ताला लगाकर बंद कर दिया गया था। किन्तु वाहनों की पार्किंग की समस्या के चलते जिला प्रशासन ने सब्जी मंडी के गेट से ताला तोड़कर पुनः वाहनों की पार्किंग के लिए खोला दिया, तो वहीं उन्होंने वर्तमान जिला प्रशासन से रामलीला मैदान में हरी घास के सौन्दर्यकरण के कार्य को करने के लिए कोविड के मामलों में कमी आने के बाद किये जाने का आग्रह किया था। यही नहीं नगर के व्यापार मंडल ने पूर्व में अपने सामान के लोड- अनलोड के लिए रामलीला मैदान को वाहन पार्किंग के लिए निवेदन किया। खेल प्रेमी युवाओं ने पालिका कार्यलय में आकर मैदान को खेल के लिए रखे जाने की मांग की थी। खेल प्रेमियों को मेरे द्वारा आश्वस्त किया गया था कि रामलीला मैदान को हम जब खाली करा देंगे तो उसमें लगातार खेल की गतिविधियां चलती रहे, जिससे वाहनों की पार्किंग पुनः न हो सके। जिसके बाद खेल प्रेमियों के सहयोग से एक से डेढ़ माह तक उत्तरकाशी की धरोहर खेल का आयोजन किया गया। जिसमें उत्तराखंड के कई बड़े खिलाड़ियों ने प्रतिभाग किया था। किंतु मेरे अथक प्रयासों के बावजूद भी नगर के बड़े तबके के लोग इस मैदान के लिए पार्किंग व सामान लोड-अनलोड कराने हेतु जिला प्रशासन के पास तक पहुंचे। जिसके बाद नगर में वाहन पार्किंग की बिगड़ती स्थिति को लेकर जिला प्रशासन ने बंद गेट को पालिका के विरोध के बावजूद पुनः वाहन पार्किंग के लिए खोल दिया जबकि नगर के पास कुछ स्थान ऐसे है जहां छोटे बड़े वाहनों को पार्क किया जा सकता है।

पालिकाध्यक्ष ने कहा कि रामलीला मैदान में हरी घास व सौन्दर्यकरण का कार्य अब टेंडर प्रक्रिया द्वारा पूर्ण होने जा रहा है। जिसकी निविदा आमंत्रित की गई है। उन्होंने जनता से अपील की, कि वे अपना वाहन नगर में लाने से वर्जित रखे जिससे जाम की स्थिति उत्पन्न न हो। बाजार आते हुए वाहनों को केदारघाट पार्किंग, जोशियाड़ा पार्किंग, अंबेडकर नगर, जियो ग्रिड वाल व नगर के दूसरे हिस्सों में पार्क करें ताकि मैदान के कार्य मे दिक्कत न हो। श्री सेमवाल ने कहा कि रामलीला मैदान में वर्ष 2003 मैं हुए व

वरुणावत भूस्खलन के बाद मैदान को बड़ी मात्रा में हानि हुई और पालिका में पूर्व में रहे बोर्ड ने इसकी कोई सुध नहीं ली जिसका खामियाजा वर्तमान बोर्ड को झेलना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि जनता मैदान के सौंदर्यीकरण को लेकर नगर पालिका का सहयोग करें जिसे आने वाले भविष्य को यह मैदान खेलने के लिए सौगात स्वरूप दिया जा सके।

You may have missed