उत्तरकाशी : मातली में आईटीबीपी परिसर होते हुए बेरोकटोक आवाजाही की मांग को लेकर ग्रामीणों का धरना,समर्थन में पहुंची शांति गोपाल रावत

 

  • संतोष साह

 

आईटीबीपी परिसर में स्थित आराध्य कपिल मुनी देव मंदिर व राजकीय इंटर कॉलेज तक बेरोकटोक आवाजाही की मांग को लेकर मातली के ग्रामीणों ने सोमवार को मातली में धरना दिया। इस मौके पर शांति गोपाल रावत ने धरनास्थल पर पहुंचकर ग्रामीणों के एक दिवसीय धरने को अपना समर्थन देते हुए आईटीबीपी के वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात कर ग्रामीणों की आस्था के केंद्र कपिल मुनि महाराज तक आने-जाने व स्कूली छात्र-छात्राओं की आवाजाही बहाल करने की मांग की।

इस मौके पर ग्रामीणों ने बताया कि 1999 में आईटीबीपी की यूनिट स्थापना के दौरान ही ग्रामीणों के साथ इस बात पर सहमति बनी थी कि ग्रामीणों के आराध्य कपिल देव मुनि महाराज के मंदिर तक ग्रामीणों की आवाजाही नहीं रोकी जाएगी और ग्रामीण बेरोकटोक आवाजाही कर सकेंगे लेकिन हाल के सालों में आईटीबीपी सुरक्षा का हवाला देकर ग्रामीणों को उनके मंदिर तक आने नहीं दे रही है जबकि इस संबंध में ग्रामीणों की आवाजाही पर पाबंदी हटाने का शपथ पत्र आईटीबीपी कोर्ट में भी दे चुकी है पर आईटीबीपी अभी भी ग्रामीणों की आवाजाही को होने नहीं दे रही।

इस मौके पर पहुंची श्रीमती रावत ने कहा कि श्री कपिल मुनि महाराज मातली के ग्रामीणों का सदियों से आराध्य रहे हैं और अपने आराध्य देव की पूजा, दर्शन करने से रोकना दुर्भाग्यपूर्ण है। शउन्होंने कहा कि देश की सुरक्षा में तैनात सैनिकों का हम सम्मान करते हैं लेकिन स्थानीय ग्रामीणों से भी ऐसा क्या खतरा है कि जो उनके आराध्य से उन्हें दूर किया जा रहा है। उन्होंने इस सिलसिले में परिसर में जाकर आईटीबीपी के वरिष्ठ अधिकारियों से वार्ता कर मामले का त्वरित समाधान निकालने की मांग की तो ग्रामीणों की ओर से श्रीमती रावत जी को ज्ञापन भी सौंपा।