उत्तरकाशी : उत्तरकाशी में मंगसीर बग्वाल को लेकर तैयारी शुरू,1 दिसम्बर से 4 दिसम्बर तक सम्पन्न होंगे कार्यक्रम

 

  • संतोष साह

 

 

अनघा माउंटेन एसोसिएशन के प्रयासों से साल 2007 से मंगसीर बग्वाल हर साल मनाते आ रहे हैं। एसोसिएशन की ओर से इस साल की मंगसीर बग्वाल मनाए जाने की इन दिनों तैयारी चल रही है। आने वाले एक दिसम्बर से चार दिसम्बर तक मंगसीर बग्वाल के कार्यक्रम तय किये गए हैं जिसमे गढ़ चित्रण, गढ़भोज,गढ़ निबंध, गढ़ भाषण,फैशन शो समेत अन्य प्रतियोगिताएं शामिल की गई हैं। इसके अलावा 5 दिसम्बर को मैक्स अस्पताल देहरादून द्वारा जिला चिकित्सालय में स्वास्थ्य शिविर का भी लगाया जाएगा। उक्त जानकारी अनघा माउंटेन एसोसिएशन के अजय पुरी ने दी। उन्होंने बताया कि 4 दिसम्बर को कन्डार देवता मंदिर से रासो नृत्य,गढ़ नृत्य व माधो सिंह घोड़े में विराजमान होगा। इस दौरान स्थानीय वेशभूषा में लोग,सांस्कृतिक दल के साथ सांस्कृतिक यात्रा निकलेगी जो कि नगर के मुख्य मार्गों से होते हुए रामलीला मैदान में पहुंचेगी। इसके बाद रासो नृत्य, भेलू पूजन आदि के साथ बग्वाल को हर्षोल्लास से मनाया जाएगा। एसोसिएशन द्वारा मंगसीर की बग्वाल को मुम्बई,मसूरी,गाजियाबाद आदि स्थानो के फेस्टिवल में भी आयोजित किया जा चुका है।

 

उल्लेखनीय है की मंगसीर की बग्वाल को मनाने की प्रथा यह है कि तिब्बत के भोट प्रान्त से टिहरी रियासत पर निरंतर आक्रमण होते रहते थे। तब टिहरी राजा महिपत शाह द्वारा आक्रमणकारियों का दमन करने के लिये माधो सिंह भंडारी व लोदी रीखोला के नेतृत्व में एक सेना भेजी गई जो विजयी होकर दीवाली से एक माह बाद लौटी। इसी विजय को लेकर एक माह बाद मंगसीर की बग्वाल को मनाने की परंपरा है।