उत्तरकाशी : लोहारीनाग व पाला-मनेरी विद्युत परियोजना को शुरू कराने के लिये प्राधिकरण प्रस्ताव भेजेगा

  • संतोष साह

भागीरथी नदी घाटी विकास प्राधिकरण उत्तराखंड के उपाध्यक्ष व राज्य मंत्री अब्बल सिंह बिष्ट ने कहा है कि भागीरथी नदी की दो परियोजना जिनमे 80 प्रतिशत कार्य हो चुका है और जो बंद पड़ी हैं क्रमशः लोहारीनाग व पाला-मनेरी परियोजना को पुनः शुरू कराने के लिये भागीरथी प्राधिकरण केंद्र व राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजेगा। भागीरथी घाटी के निरीक्षण में पहुंचे  बिष्ट ने कहा कि पहाड़ की भौगोलिक स्थिति के तहत यहाँ 2 से 10 मेगावाट तक कि छोटी जल विद्युत परियोजना शुरू कराने के लिये केंद्र व राज्य को प्रस्ताव भेजे जाएंगे।

मीडिया से बातचीत में उपाध्यक्ष प्राधिकरण ने कहा कि भागीरथी नदी घाटी विकास प्राधिकरण के एरिया गौमुख से देवप्रयाग तक है। जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए कार्ययोजना बनाने के सरकार को निर्देश दिए थे। जिस पर 2005 को अस्तित्व में आये प्राधिकरण ने महायोजना तैयार की है जो जल्द ही नियोजित विकास के लिये सामने आएगी जिस पर संबंधित विभाग कार्य करेंगे।

 

उन्होंने कहा कि गंगोत्री में नदी में आरबीएम काफी मात्रा में है जिसे हटाने के लिये सिंचाई को कार्य योजना बनाये जाने के निर्देश दिये गए है। इसके अलावा गंगोत्री धाम में दोनो ओर नमामि गंगे घाट बनाये जाने को लेकर भी कार्य योजना बनाने को कहा गया है। पर्यटन को देखते हुए धरासू व भैरव घाटी में प्राधिकरण द्वारा गंगा-यमुना स्वागत द्वार भी बनाये जाएंगे। इस मौके पर उनके साथ मौजूद अपर सचिव गृह व आवास ने प्राधिकरण व महायोजना की जानकारी दी। इस मौके पर संयुक्त सचिव ऊर्जा,पूर्व ब्लॉक प्रमुख व जिला पंचायत सदस्य चंदन पंवार,संयोजक गंगा विचार मंच लोकेंद्र बिष्ट भी मौजूद थे।

Leave a Reply

You may have missed