उत्तरकाशी : डीएम मयूर दीक्षित का सराहनीय कार्य, पाठकों को दी आधुनिक पुस्तकालय की सौगात,प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वालों के साथ गरीब बच्चों को भी मिलेगा लाभ

  • संतोष साह

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले बच्चों,शोध कर्ताओं,किताब पढ़ने वाले शौकीन पाठकों को शुक्रवार को आधुनिक पुस्तकालय के रूप में बड़ी सौगात मिली। डीएम मयूर दीक्षित ने जिला पुस्तकालय का फीता काटकर उदघाटन किया। इस दौरान नगर पालिका अध्यक्ष रमेश सेमवाल व जिलाध्यक्ष भाजपा रमेश चौहान भी उपस्थित रहें। गौरतलब है कि पहली मर्तबा यदि किसी डीएम ने जिला पुस्तकालय की सुध ली तो वे हैं मयूर दीक्षित। जिन्होंने 13 लाख की लागत से जिला पुस्तकालय का सौन्दर्यकरण और रूपान्तरण कराकर लाइब्रेरी को आधुनिक स्वरूप दिलाया है। जिसमें 45 हजार से अधिक किताबों के साथ ही प्रतियोगी परीक्षाओं जैसी नवीन अध्ययन सामग्री भी उपलब्ध हैं जो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्र-छात्रओं व पाठकों के लिए अहम साबित होगी।

डीएम ने पुस्तकालय उदघाटन के दौरान अपने सम्बोधन में कहा कि शिक्षा को बढ़ावा देना और नौजवानों को रोजगार से जोड़ना मुख्यमंत्री की प्राथमिकताओं में है इसी परिपेक्ष में जिला पुस्तकालय में बहुउपयोगी पुस्तकों, पत्रिकाओं का संकलन किया गया है जिसका पाठकों समेत प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्र-छात्राओं को भी लाभ मिलेगा। डीएम ने कहा कि मोबाईल के बढ़ते प्रचलन व नशाखोरी के चलते बच्चे किताबों से निरन्तर दूर होते जा रहें हैं। बच्चों के अंदर पढ़ने की रूची पैदा करने व उनके अनुरूप अध्ययन सामाग्री उपलब्ध कराने हेतु पुस्तकालय को आकर्षित व आधुनिक बनाया गया हैं ताकि बच्चों का ध्यान किताबों की ओर बढ़े।

उन्होंने कहा कि ऐसे बच्चे जो आर्थिक रूप से कमजोर है और किताबे क्रय नहीं कर पाते है वे भी लाइब्रेरी में आकर अपनी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर सकेंगे।  दीक्षित ने कहा कि जिला पुस्तकालय के अलावा पुस्तकालय की शाखा बड़कोट, चिन्यालीसौड़, भटवाड़ी लाइब्रेरी को भी चरणवार रूप से आधुनिक बनाया जाएगा। इसके अतिरिक्त ग्रामीण स्तर पर भी सौ से अधिक पुस्तकालय खोलने का लक्ष्य रखा गया हैं ताकि ग्रामीण बच्चें अपने गांव में ही प्रतियोगी परीक्षाओं आदि से संबंधित किताबों का अध्ययन कर सकें। इस दौरान डीएम ने जिला पुस्तकालय में सीसीटीवी कैमरे व कम्प्यूटर लगाने तथा नई आलमारियां क्रय करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कोविड-19 में ऐसे बच्चे जिन्होंने अपने माता-पिता को खोया है उन्हें पुस्तक किट भी वितरित की।

इस अवसर पर मुख्य शिक्षाधिकारी विनोद प्रसाद सेमल्टी, जिला शिक्षाधिकारी रामेन्द्र कुशवाह,जितेन्द्र सक्सेना, सभासद गीता रावत, मनोज चौहान, प्रभारी पुस्तकालयाध्यक्ष अखिलानन्द भट्ट सहित अन्य उपस्थित थे।

You may have missed