उत्तरकाशी : प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना जलागम विकास में वन विभाग की कार्यप्रणाली से प्रधानों में रोष,डीएम के माध्यम से पीएम को भेजा ज्ञापन

  • संतोष साह

प्रधान संगठन ने वन विभाग पर प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना जलागम विकास पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। प्रधान संगठन के प्रदेश महामंत्री प्रताप रावत के नेतृत्व में प्रधानों ने एक ज्ञापन प्रधानमंत्री और सचिव भूमि संसाधन विकास ग्रामीण विकास मंत्रालय को डीएम के माध्यम से प्रेषित किया।

इससे पूर्व उक्त योजना को लेकर ग्राम प्रधानों की एक बैठक आहूत की गई जिसमें उक्त योजना को लेकर प्रधानों का कहना था कि वन विभाग की लापरवाही के चलते केंद्र सरकार की अति महत्वपूर्ण प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना जलागम विकास अब बंद होने के कगार पर है। प्रधानों का यह भी कहना था कि वर्ष 2014-15 में उक्त योजना के तहत ब्लॉक भटवाड़ी के बाड़ाहाट रेंज और टक नौर रेंज के 25 राजस्व गांवों को आपदा की दृष्टि से लिया था और इन गांवों के लिये 22 करोड़ की डीपीआर बनाकर स्वीकृति मिली थी जिसमे कार्यदायी संस्था ने महज 20 प्रतिशत कार्य और 4.30 करोड़ ही खर्च कर पाए है जिसके चलते योजना 31 मार्च 2021 को बंद होने की कगार पर है। गप्रधानों ने इसकी शिकायत मुख्यमंत्री व सचिव भूमि संसाधन विकास मंत्रालय में स्वयं जाकर करने की भी बात कही है।
इस मौके पर प्रधान महेश पंवार, महेश कुमार, नवीन राणा,सुशील राणा,अंजना रावत,अनीता देवी,रंजना नेगी,देवीनता देवी,शेलेन्द्री देवी,पार्वती रमोला, नीलम रमोला, ममता नौटियाल, आरती मखलोगा, सुनील राणा,नत्थी लाल शाह समेत अन्य शामिल रहे।

Leave a Reply

You may have missed