कांधला में ताड़का, सुभाउ वध की रोमांचक लीला का हुआ मंचन

तनुज कुमार
कांधला। संवाददाता
बीते सोमवार की रात को श्रीरामलीला कमैटी पंजाबी धर्मशाला के तत्वधान में भगवान श्री गणेश व राम लक्षमण की आरती के पश्चात लीला मंचन कार्यक्रम किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थाना प्रभारी निरीक्षक रोजन्त त्यागी को श्रीरामलीला कमैटी के द्वारा प्रतीक चिन्ह भेट कर सम्मानित किया गया। उन्होने अपने संबोधन में कहा कि अगर हम सभी रामायण का अपने ह्रदय में सच्चे मन से धारण कर ले तो भाई भाई में बटवारे को लेकर भी कोई विवाद नही हो सका। पति व पत्नी एक दूसरे का सम्मान करते रहे। पिता पुत्र में सेवा भाव और सम्मान की मर्यादाऐं स्थापित होगी। इसके पश्चात लीला मंचन में सर्व प्रथम दशरथ दरबार में ब्रह्रम ऋषि विश्वामित्र आगमन, राम, लक्षण को साथ लेकर विश्वमित्र के द्वारा आश्रम लेकर जाना, राक्षसी ताड़का का वध, अहिल्या उद्धार की सुन्दर लीला का मंचन प्रस्तुत किया गया। जिसमें भंयकर राक्षसी ताड़का के द्वारा पृथ्वी पर ऋषि मुनियों अत्याचार की भंयकर रोमाचंक लीला दृशकों के लिये आर्कषण का केन्द्र रही। जिसे श्रद्धालुओं के द्वारा जमकर सराहा गया। कार्यक्रम का संचालन ललित शर्मा ने किया।

 

इस दौरान शिवकान्त, रंजन शर्मा, प्रशांत, प्रदीप कुमार सिंघल, बंटी, महावीर प्रसाद अग्रवाल, अनिल मित्तल सहित दर्जनों लोग उपस्थित रहे। दूसरी और श्रीरामलीला कमैटी मंड़प पंचवटी के तत्वधान में गणेश वन्दना और रामचन्द्र जी आरती के पश्चात श्रीरामलीला का शंुभारंभ किया गया। जिसमें रावण देहूति संवाद लीला का मंचन प्रस्तुत किया गया। इस दौरान जोनी शर्मा, अशोक महेश्वरी, श्याम कुमार सिंघल, मेहरचंद आदि मौजूद रहे। ————————–

You may have missed