कैराना के युवाओं में शक्ति है साहस है धैर्य हैं शौर्य है: लेफ्टिनेंट अंशुमन सिंघल 

विशाल भटनागर
कैराना। भारतीय सेना में बतौर लेफ्टिनेंट बने अंशुमन सिंगल को सेंट आरसी स्कूल में सम्मानित किया गया। इस दौरान लेफ्टिनेंट अंशुमन सिंघल ने कहा कि कैराना की युवा पीढ़ी के अंदर शक्ति हैं साहस हैं धैर्य है शौर्य हैं। जो मन में ठाने उसे जरूर पूरा किया जाए। वहीं उन्होंने युवा पीढ़ी से हिम्मत के साथ आगे बढ़ने का आह्वान किया।

कैराना नगर के मोहल्ला गुंबद एवं हाल निवासी शामली व्यापारी अरविंद सिंघल के बड़े बेटे अंशुमन सिंगल ने भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट बनकर कैराना का नाम रोशन किया हैं। उन्होंने देहरादून के आईएमए में पास आउट हुए अंशुमन सिंगल भारतीय सेना का हिस्सा बने हैं। अंशुमन सिंगल की माता अनीता सिंघल शिक्षिका रही है,अंशुमन सिंघल भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट बनने के बाद पहली बार बृहस्पतिवार को सेंट आरसी स्कूल में पहुंचे।

 

उनके साथ उनके पिता अरविंद कुमार सिंगल माता अनीता सिंघल मौजूद रहीं। जहां पर स्कूल प्रबंधक कमेटी की ओर से उनको पगड़ी पहनाकर सम्मानित किया। बाद में शिक्षकों व स्कूल के सीनियर विद्यार्थियों ने उनको सम्मानित किया। इसके अलावा व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष अनिल गुप्ता सहित अन्य व्यापारियों ने उनका सम्मानित किया गया।

 

अंशुमन सिंघल ने सभी का धन्यवाद अदा किया उन्होंने कहा कि कैराना की युवा पीढ़ी के अंदर शक्ति है साथ है धैर्य है चोरी है जो भी मन में ठाणे उसे पूरा जरूर करें उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक को वैज्ञानिक प्रताप बैरागी को बैरागी मिल ही जाता है अगर कोई कूट-कूट कर चलेगा तो कोई साथ नहीं देगा आप हिम्मत से आगे बढ़े आपके साथ सब चल पड़ेंगे। लेफ्टिनेंट अंशुमन सिंघल के पिता अरविंद सिंघल ने कहा कि कैराना मेरा परिवार हैं उनके बेटे ने आज भारतीय सेना में अहम मुकाम हासिल कर अच्छा कार्य किया हैं।