कमल के साथ कलम के जरिए भी जुड़े रहे जनसंघर्षों से रामसुंदर नौटियाल

 

 

रामसुन्दर नौटियाल, यमुनोत्री विधानसभा में आज भले ही भारतीय जनता पार्टी के सबसे मजबूत दावेदार के तौर पर सामने हैं लेकिन इनका अतीत क्षेत्र की समस्याओं, क्षेत्र की जरूरतों के लिए संघर्ष के मैदान में डटे रहने वाले एक सिपाही की है। कमल का समर्थक यह कलम का सिपाही बनकर क्षेत्र व जन की आवाज बनता रहा। भारतीय जनता पार्टी से जुड़ने के बाद जहां पार्टी के प्रति अपने समर्पण व निष्ठा के बूते श्री नौटियाल ने बूथ स्तर से लेकर राज्य मंत्री तक का अहोदा पाया और भारतीय जनता पार्टी के हाईकमान के उम्मीदों पर खरे उतरे तो कलम के सिपाही के रूप में यमुनोत्री विधानसभा की समस्याओं को लेकर उनकी कलम खूब गरजी।

चिन्यालीसौड़ को तहसील बनाने को लेकर, दिचली गमरी क्षेत्र में व्याप्त समस्याओं के निस्तारण, चिन्यालीसौड़, भंडारस्यू क्षेत्र की समस्याओं को लेकर सड़क से लेकर अपनी लेखनी के जरिए श् नौटियाल हमेशा अग्रिम पंक्ति में खड़े रहे। क्षेत्र की जन समस्याओं के निस्तारण के लिए वह तपती दोपहरी में सड़कों पर धरना देते, आंदोलन करते और देर शाम उन्हें शब्दों में पिरोकर खबरों के जरिए देश दुनिया तक पहुंचाते।चिन्यालीसौड़ को अपना ठिकाना बनाने के बाद स्वतंत्र पत्रकारिता के जरिए सैकड़ों लेखों में क्षेत्र की समस्याओं को प्रमुखता से उठाने से लेकर पर्यटन की दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण लेकिन दुनिया की नजरों से ओझल क्षेत्रों की खबर भी जन जन तक पहुंचाई।

टिहरी झील के जल स्तर से उत्पन्न हुई समस्याओं को लेकर मुखर रहे। भाजपा के बैनर तले कांग्रेस सरकार की जनविरोधी नीतियों, भ्रष्टाचार के खिलाफ शेर बनकर गरजे तो अपनी कलम के जरिए खबरों के रूप में देश दुनिया तक क्षेत्र की बात पहुंचाई।

आज तमाम लोग चिन्यालीसौड़, दिचली गमरी, भंडारस्यूं क्षेत्र की समस्याओं के निस्तारण के लिए अपनी पीठ थपथपाते फिर रहे हो लेकिन इतिहास और वर्तमान जानता है कि भाजपा में बूथ स्तर से जिलाध्यक्ष, राज्यमंत्री तक का मुकाम हासिल करने वाले, भाजपा के झंडे लेकर कांग्रेस सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ तपती सड़कों पर प्रदर्शन करने, अपनी लेखनी व पत्रकारिता कौशलता के जरिए क्षेत्र की समस्याएं देश दुनिया की नजरों में लाने का काम अगर यमुनोत्री विधानसभा में किया है तो वह श्री रामसुन्दर नौटियाल ने किया हैं।

 

ADVT