उत्तरकाशी : गंगोत्री के नजदीकी हर्षिल में विकास उत्सव,स्थानीय संस्कृति से पर्यटक भी होंगे रूबरू

 

  • संतोष साह

 

विकास उत्सव के जरिये सीमावर्ती गांव गुलजार होंगे जिससे स्थानीय संस्कृति से पर्यटक भी रूबरू हो सकेंगे। 17 व 18 अक्टूबर को हर्षिल में पुलिस व जिला प्रशासन के सौजन्य से विकास उत्सव मेला आयोजित होने जा रहा है। डीएम मयूर दीक्षित की अध्यक्षता में विकास उत्सव की तैयारियों को लेकर बैठक हुई है जिसमे कार्यक्रम की रूपरेखा तय की गई है। डीएम ने विकास से जुड़े विभागों को विकास उत्सव में अपने विभागीय स्टाल स्थापित करने, बागवान व किसानों के स्थानीय उत्पादों के विक्रय के लिए स्टाल उपलब्ध कराने को कहा है जबकि स्थानीय बुनकरों व शिल्पकारों द्वारा तैयार ऊलन व वुडन क्राफ्ट आदि के विक्रय में सहयोग करने के निर्देश सम्बंधित विभाग को दिए हैं ताकि सीमांत गांव के स्थानीय उत्पादों को राष्ट्रीय स्तर पर बढ़ावा मिले और ग्रामीणों की आर्थिकी मजबूत की जा सकें। उन्होंने सरकार की नीतियों, उपलब्धियों और जनकल्याणकारी योजनाओं का प्रचार -प्रसार सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग में पंजीकृत सांस्कृतिक दलों के माध्यम से कराने के भी निर्देश दिए। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए साहसिक खेल हेतु साइकलिंग व ट्रेकिंग की जिम्मेदारी पर्यटन विभाग को सौंपी गई है। इसके अतिरिक्त मेले में खेल प्रतियोगिता का आयोजन भी होगा जिसमें

बॉलीबाल,रस्सा-कस्सी जैसी विभिन्न खेल गतिविधियां आयोजित होगी। विकास उत्सव में सीमावर्ती गांव की पारम्परिक संस्कृति देखने को मिलेगी इस हेतु विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होंगे। सीमावर्ती स्कूली बच्चों के बीच क्विज व पेंटिंग प्रतियोगिता भी करायी जाएगी। स्थानीय कल्चर को बढ़ावा देने के लिए ओपन स्तर पर भी पेंटिंग प्रतियोगिता निर्धारित थीम के अंर्तगत होगी इन सबकी जिम्मेदारी मुख्य शिक्षा अधिकारी को दी गई है।

बैठक में पुलिस अधीक्षक मणिकांत मिश्रा,मुख्य उद्यान अधिकारी डॉ रजनीश,मुख्य कृषि अधिकारी गोपाल भंडारी,जिला क्रीड़ा अधिकारी निधि,जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल सहित ग्राम प्रधान हर्षिल उपस्थित रहे।

You may have missed