उत्तरकाशी : भटाडी नामे तोक अस्तल में खनन से ग्रामीण मान रहे हैं खतरा,सुरक्षात्मक कार्य की मांग

  • संतोष साह

डुंडा ब्लॉक में अस्तल गांव के भटाडी नामे तोक मे खनन के कार्य को ग्रामीण घरों के लिये खतरा मान रहे हैं। इस सिलसिले में बीते दिनों ग्राम प्रधान प्रियवादिनी पैन्यूली ने डीएम को पत्र भी दिया है। पत्र में उल्लेख किया है कि 2013 में गंगा नरसिंग खाले में आई बाढ़ से खेती के अलावा कई घरों को नुकसान पहुंचा। तदोपरांत प्रशासन के आला अधिकारियों ने हालात देखे बावजूद इसके सुरक्षात्मक कार्य नहीं हुए। पत्र में यह भी बताया गया है कि अब यहाँ खनन चल रहा है जिस कारण 20 से 30 परिवारों के घरों व खेती को नुकसान की संभावना बढ़ गई है बावजूद इसके मामले को गंभीरता से नही लिया जा रहा है। ग्राम प्रधान ने पत्र में कहा है कि यदि आने वाले समय मे यहां कोई नुकसान होता है तो उसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी प्रशासन की होगी।

उधर उक्त खनन व ग्रामीणों द्वारा खतरे की संभावना की शिकायत को लेकर जा एसडीएम डुंडा आकाश जोशी से जानना चाहा तो उन्होंने बताया कि यह खनन नही बल्कि रिवर बेल्ट में खतरे को कम करने के लिये रिवर ट्रेनिंग हो रहा है। उन्होंने बताया कि नदी में एक तरफा भारी आरबीएम जमा होने के फलस्वरूप नदी का बहाव एक तरफा न बना रहे इसको देखते हुए नदी को सेन्टर में चैनलाइज करने के लिये यह सब कुछ हो रहा है न कि खनन। उन्होंने यह भी बताया कि विस्थापन को भी शासन से स्वीकृत मिल गई है।

Leave a Reply