उत्तरकाशी : गरीबों की राशन डकारने वाले राशन कार्डों का होगा सर्वे ,नगर में नगर पालिका तो गांवों में खंड विकास अधिकारी के माध्यम से होगा सत्यापन

  • संतोष साह

गरीबों की राशन डकारने वाले राशन कार्डों का पता लगाने के लिये जल्द ही सर्वे होने जा रहा है। इस आशय के पत्र जारी हो चुके हैं। इधर राशन कार्डों के सत्यापन को लेकर उन कार्डधारकों में हड़कंप मचा है जो पात्र न होते हुए भी गरीबों की राशन एक लंबे समय से डकार रहे हैं। यही नही कोरोना काल मे फ्री की राशन की भी मौज ले रहे हैं।
गौरतलब है कि अभी दो दिन पूर्व प्रशासन की ओर से भी राशन कार्ड धारकों के लिये सूचना जारी की गई है जिसमे स्पष्ट किया गया है कि जो लोग राशन कार्ड की आमदनी के मुताबिक पात्रता नही रखते वे अपने राशन कार्ड सरेंडर कर दें वरना राशन कार्ड निरस्त करने के साथ ही ऐसे लोगों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही भी की जाएगी। उल्लेखनीय है कि अंत्योदय व बीपीएल में मासिक आय 15 हजार और एपीएल में सालाना 5 लाख से अधिक न हो यह पात्रता निश्चित की गई है। इस आय से अधिक का यदि कोई राशन कार्ड बना है तो वह फर्जी माना जायेगा जिसे देखते हुए उपभोक्ता जो कि पात्रता नही रखते उन्हें कार्ड सरेंडर करने को कहा गया है। उधर जिला पूर्ति अधिकारी गोपाल मट्डा ने बताया कि राशन कार्ड के सत्यापन और सर्वे के लिये डीएम के आदेशानुसार नगर पालिका, नगर पंचायत को नगर में और ग्रामीण इलाके के लिये बीडीओ को पत्र जारी हो चुके हैं।
बहरहाल राशन कार्ड की इस प्रक्रिया को लेकर वे परेशान हैं जो पात्र न होते हुए भी गरीबों का राशन डकार रहे हैं। चर्चा यह भी है कि बीपीएल में फर्जी नामा कहीं अधिक है। इधर यह भी जानकारी मिली है कि राशन कार्डों के उक्त सत्यापन और कार्ड सरेंडर करने की सूचना जारी होने के बाद देहरादून,हरिद्वार और ऋषिकेश आदि स्थानों में कई उवभोक्ताओं ने पात्रता न होने के एवज में अपने राशन कार्ड सरेंडर कर दिए हैं ताकि भविष्य में विधिक कार्यवाही से बचा जा सके।

Leave a Reply

You may have missed