उत्तरकाशी : आपदा प्रभावित सुदूरवर्ती गांव-गांव पहुंचकर डीएम मयूर दीक्षित ने हाल जाना,रात्रि चौपाल लगाकर भी समस्याएं सुनी

  •  संतोष साह

हिमाचल सीमा से लगे जिले के मोरी प्रखंड की बंगाण घाटी आराकोट में 2019 में आयी प्राकृतिक आपदा से प्रभावित गांवों का डीएम मयूर दीक्षित ने गांव- गांव जाकर ग्रामीणों की समस्याएं सुनीं। इसके अलावा उन्होंने माकुडी गांव में रात्रि चौपाल लगाकर भी ग्रामीणों की समस्या सुनीं। ग्रामीणों द्वारा माकुडी में बाढ़ सुरक्षा के कार्य कराने,गांव में नाली निर्माण, रौधार तोक में विद्युत लाइन पहुंचाने,गांव में नेटवर्क कनेक्टिविटी देने,सड़क मार्ग का विस्तारीकरण करने की मांग की गई।

गांव की तारादेवी द्वारा आवासीय भवन में सड़क का मलबा आने से रोकथाम हेतु सुरक्षा दीवार लगाने व तिरछे हुए बिजली के पोल को सही कराने का डीएम से अनुरोध किया गया। जिस पर डीएम ने ग्रामीणों को आश्वस्त किया की माकुड़ी गांव में बाढ़ सुरक्षात्मक कार्य हेतु कार्यदायी संस्था सिचाई विभाग द्वारा 32 लाख का प्राकलन तैयार किया गया है जिसमें शीघ्र ही धनराशि जारी कर कार्य प्रारंभ कर लिया जाएगा। उन्होंने गांव में स्वच्छ भारत मिशन के अंर्तगत नाली निर्माण व मनरेगा के अंर्तगत रास्तों को शीघ्र ही दुरुस्त करने की बात कही साथ ही खण्ड विकास अधिकारी को तत्काल अग्रिम कार्यवाही करने के निर्देश दिए।

डीएम ने गांव में तिरछे हुए सभी विद्युत पोल को सही कराने के साथ ही तारादेवी के मकान के पास तत्काल सुरक्षा दीवार लगाने के निर्देश ईई लोनिवि व विद्युत को दिए। उन्होंने ग्रामीणों को गांव में मोबाइल नेटवर्क कनेक्टिविटी के लिये शीघ्र ही टेलीकॉम सेवा से वार्ता कर सकारात्मक निर्णय के बाद अग्रिम कार्यवाही करने का भरोसा दिया।
डीएम की चौपाल के वक्त एसडीएम पुरोला सोहन सैनी,एसीएमओ आर.सी.आर्य, ईई लोनिवि धीरेंद्र कुमार, जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल, सहित अन्य क्षेत्रीय अधिकारी मौजूद थे।

You may have missed