उत्तरकाशी : उत्तरकाशी में गढ़वाली बोली में रामलीला की हुई शुरुआत, विधायक केदार ने किया उदघाटन

  • संतोष साह

उत्तरकाशी के रामलीला मैदान में आज से गढ़वाली बोली में रामलीला शुरू हो चुकी है। यह पहला मौका है जब उत्तरकाशी रामलीला समिति ने अनोखी पहल कर अपनी बोली में रामलीला का आयोजन कर स्थानीय भाषा, संस्कृति का संरक्षण कर महत्वपूर्ण कार्य किया है।

इस बीच देर शाम रामलीला का शुभारंभ करने बतौर मुख्य अतिथि यमुनोत्री केदार सिंह रावत पहुंचे उन्होंने दीप प्रज्वलन के साथ रामलीला का शुभारंभ कराया। इस अवसर पर रामलीला समिति के द्वारा उन्हें सम्मानित किया। विधायक को समिति की ओर से गढ़वाली बोली रामलीला की नव प्रकाशित ग्रंथ भी भेंट किया। समिति की ओर से अन्य अतिथियों का भी स्वागत किया गया।

इससे पूर्व गणेश की आरती से रामलीला मंचन की शुरुआत हुई साथ ही रावण लीला का दृश्य भी मंचन किया गया। गौरतलब है कि लीला में सभी मंचन से लेकर संचालन भी गढ़वाली बोली में ही किया जा रहा है। रामलीला का संचालन मुख्य उदघोषक जयेन्द्र पंवार कर रहे हैं।

इस अवसर पर रामलीला समिति के संरक्षक उमेश बहुगुणा, अध्यक्ष गजेंद्र मटूड़ा,ब्रह्मानंद नौटियाल,रमेश चौहान,अजय बडोला,जलमा राणा,किरण पंवार, पुष्पा बहुगुणा,जगदंबा चौहान, राजपाल बिष्ट, नौबर कटेथ, अनीता राणा, भूपेंद्र भंडारी,विजय भट्ट,अरविंद राणा समेत अन्य मौजूद थे।

You may have missed