उत्तरकाशी : गढ़वाली बोली में रामलीला,पांचवें चरण की कार्यशाला अठाली में सम्पन्न, छठे चरण की कार्यशाला खरसाली में होगी

  • संतोष साह

कोविड से निजात मिल जाए तो लोगों को पहली बार उत्तरकाशी में गढ़वाली भाषा व बोली में रामलीला मंचन देखने को मिलेगा। श्री आदर्श रामलीला समिति उत्तरकाशी इसके लिये काफी प्रयासरत है। जिसके लिए कार्यशाला के जरिये समय-समय पर तैयारी की जा रही है। इस बीच पिछले तीन दिन तक गढ़वाली भाषा मे रामलीला की कार्यशाला तहसील भटवाड़ी के गांव अठाली में सम्पन्न हुई। यहाँ कार्यशाला आयोजन को लेकर अठाली, दिलसौड़,चामकोट के पंचायत, महिला मंगल दल का भी सहयोग मिला। कार्यशाला में ग्राम प्रधान सुनीता गुंसाई, बीडीसी बिजेन्द्र सिंह समेत कई अन्य ने शिरकत कर कार्यशाला आयोजित होने पर खुशी जाहिर की और कार्यशाला से जुड़े समिति के लोगों को बधाई देने के साथ उनका आभार भी व्यक्त किया।

उधर अठाली में तीन दिवसीय कार्यशाला में समिति के जिन लोगों ने भाग लिया उनमें कार्यशाला संयोजक व मुख्य उदघोषक जयेंद्र सिंह पंवार, समिति के अध्यक्ष गजेंद्र मटूड़ा,राधा बल्लभ नौटियाल, प्रहलाद,दिनेश नौटियाल, माधव प्रसाद शास्त्री,महेंद्र पंवार,विजय चौहान, कमल सिंह रावत,कैलाश सेमवाल, शांति भट्ट समेत अन्य शामिल रहे।

इधर कार्यशाला के समापन के बाद कार्यशाला संयोजक जयेंद्र सिंह पंवार ने बताया कि कार्यशाला का छठा चरण खरसाली(यमुनोत्री) में आगामी 19,20 व 21 अगस्त को तीन दिवसीय होगा।

You may have missed