पिथौरागढ़ के 136 परिवारों का गांव धापा धंस रहा,दरारें कर रही गांव छोड़ने को मजबूर,पुर्नवास के लिये 10 अगस्त को तहसील घेरने की दी चेतावनी

  • संतोष साह

पिथौरागढ़ जिले का सीमांत गांव धापा धंस रहा है,गांव में दरारें भी आने लगी हैं। 136 परिवारों के इस गांव के लोग गांव छोड़ने को मजबूर होने लगे हैं। गांव के लोग पुर्नवास की मांग कर रहे हैं। इस सिलसिले में 10 अगस्त को इस गांव के ग्रामीणों ने पुर्नवास की मांग को लेकर तहसील मुनस्यारी का घेराव करने की चेतावनी दी है। ग्रामीणो ने कहा है कि पटवारी ने जो नुकसान का आंकलन किया उससे ग्रामीण संतुष्ट नहीं हैं।

इस सिलसिले में ग्रामीणों ने एसडीएम को भी पत्र दिया है।
इधर आपदाग्रस्त धापा गांव में आज ग्राम प्रधान चंद्रा देवी रिलकोटिया की अध्यक्षता में खुली बेठक हुई। इस दौरान जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया भी उपस्थित थे। बैठक में ग्रामीणो ने नुकसान के आंकलन में भेदभाव का आरोप लगाते हुए कहा कि जो घर रहने लायक भी नही उन्हें नुकसान में नही दिखाया गया। ग्रामीणो ने तहसीलदार के के नेतृत्व में टीम बनाकर फिर से मूल्यांकन की मांग की है।

बैठक में बीआरओ पर भी आरोप लगाया गया कि उसने 21 दिन बाद भी धापा तक मोटर मार्ग नही खोला। ग्रामीणो का यह भी कहना था कि प्रशासन द्वारा भू वैज्ञानिक सर्वे किये जाने को कहा था मगर भू वैज्ञानिक नही पहुंचे।
बैठक में केदार सिंह मर्तोलिया, प्रह्लाद सिंह,दिनेश धवाल,मदन जोशी,अंजलि,सुमन,रतन सिंह,कुशल राम समेत ग्रामीण मौजूद थे।

Leave a Reply

You may have missed