उत्तरकाशी : जिले में शासन, प्रशासन, देवस्थानम व मंदिर समिति एक टेबल पर आए बात हुई,तीन दिन में मंदिर समिति अपनी बात लिखकर देगी,धरना कल से समाप्त

  • संतोष साह

उत्तरकाशी में आज शासन के प्रतिनिधि के तौर पर विधायक गोपाल रावत,डीएम मयूर दीक्षित,देवस्थानम बोर्ड के प्रतिनिधि व मंदिर समिति गंगोत्री के प्रतिनिधि एक टेबल पर आए और देवस्थानम बोर्ड को लेकर चर्चा हुई। चर्चा होने के बाद गंगोत्री धाम में कल से धरना समाप्त करने का भी निर्णय लिया गया।

उक्त बैठक में गंगोत्री धाम मंदिर समिति के पदाधिकारियों, पंडा-पुरोहितों ने देवस्थानम बोर्ड को लेकर आपत्ति करने के साथ ही अपने हक-हकूको की बात रखी। विधायक गोपाल रावत ने कहा कि वे शुरू से हक-हकूक के पक्षधर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो भी निर्णय लिया जाएगा वह पंडा-पुरोहितों को विश्वास में लेकर किया जाएगा। विधायक ने यह भी कहा कि विष्वास में लेने की वजह से उन्होंने डीएम से यह बैठक करने को कहा था। उन्होंने यह भी कहा कि तीर्थ पुरोहितों को 3 से चार दिन का समय अपनी बात लिखित रूप से देने को कहा गया है ताकि किसी तरह का संशय न रहे।

डीएम मयूर दीक्षित ने बैठक के उपरांत बताया कि गंगोत्री धाम में एक लंबे समय से सेटलमेंट नही हुआ है। उन्होंने कहा कि देवस्थानम को लेकर तीर्थ पुरोहित धाम में आंदोलित भी हैं। आज हुई बैठक को लेकर उन्होंने कहा कि एक रेवन्यू कमेटी बनेगी जिसमे रेवन्यू के प्रतिनिधियों के साथ मंदिर समिति के भी प्रतिनिधि शामिल होंगे। जिस पर एक प्लान बनाकर शासन को भेजा जाएगा।

डीएम ने कहा कि आज विधायक, देवस्थानम बोर्ड ,मंदिर समिति के बीच बातचीत हुई ताकि एक्ट को लेकर संशय न हो। डीएम ने कहा कि मंदिर समिति को अगले तीन से चार दिन में अपने सभी बिंदुओं को लिखकर देने को कहा गया है ताकि सभी रिपोर्ट शासन, देवस्थानम बोर्ड को भेजी जा सके। डीएम ने कहा कि आगे भी उस तरह की बैठक बुलाकर संशय दूर करने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मंदिर समिति की ओर से भी कई बातें रखी गई। डीएम ने इसी बैठक की चर्चा और आगे भी गंगोत्री धाम के विकास, यात्रा को लेकर बातचीत के क्रम में कल से गंगोत्री धाम में तीर्थ पुरोहितों द्वारा धरना समाप्त करने का निर्णय लिया गया।

Leave a Reply

You may have missed