उत्तरकाशी : कोविड संक्रमण रोकथाम को लेकर डीएम मयूर दीक्षित के आला अफसरों को अहम निर्देश,कांटेक्ट ट्रेसिंग के लिये पूर्व में तैनात सर्विलांस टीम को सक्रीय करने,पॉजिटिव केस की मैपिंग कराने व सेम्पलिंग बढ़ाने के साथ ही वाररूम में 24 घंटे डॉक्टर की उपस्थिति तत्काल सुनिश्चित करें

  • संतोष साह

कोरोना संक्रमण के रोकथाम को लेकर डीएम मयूर दीक्षित ने आज स्वास्थ्य विभाग समेत अन्य आला अफसरों की महत्वपूर्ण बैठक लेते हुए उन्हें निर्देशो का पालन तत्काल सुनिश्चित किये जाने को कहा। डीएम ने आला अफसरों से कहा कि जिले में कोरोना के केस प्रतिदिन बढ़ रहे हैं लिहाजा कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट आते ही तत्काल उसकी कांटेक्ट ट्रेसिंग की जाय ताकि ट्रेसिंग के जरिये कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोका जा सके।

उन्होंने इसके लिये पूर्व में तैनात सर्विलांस टीम को सक्रीय करने को भी सुनिश्चित करने को कहा।
डीएम ने कहा कि तहसील स्तर पर सभी एसडीएम को इंसीडेंट कमांडर की जिम्मेदारी दी गई है जो कोरोना संक्रमण रोकथाम के लिये जनसामान्य की जीवन सुरक्षा के लिये आवश्यक निर्णय ले सकेंगे।

उन्होंने डीसीसीसी,जीएमवीएन उत्तरकाशी व बड़कोट में आवश्यक सुविधाओं के साथ ही मेडिसन किट, ऑक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था के अलावा वहां सीसीटीवी, पुलिस, पीआरडी की तैनाती करने तथा प्रत्येक कमरे में महत्वपूर्ण फ़ोन नंबर की सूची भी चस्पा करने के भी निर्देश दिए। डीएम श्री दीक्षित ने जिले में वेंटिलेटर, आईसीयू,दवा, मास्क,पीपीई किट आदि की पर्याप्त मात्रा की उपलब्धता बनी रहे इसके लिये मुख्य चिकित्सा अधिकारी की जिम्मेदारी तय की गई है। बैंकों में भीड़ के मद्देनजर कोविड नियमो कस अनुपालन सुनिश्चित हो इसके लिये एलडीएम की जिम्मेदारी तय की गई। डीएम ने साफ कहा कि कोई भी व्यक्ति बुखार की दवा लेने मेडिकल शाप से लेकर अस्पतालों, स्वास्थ्य केंद्रों में आते हैं तो उनका कोविड टेस्ट लेने के बाद उन्हें कोविड मेडिसिन किट दी जाय। इसके लिये स्वास्थ्य विभाग को किट तैयार करने के भी निर्देश दिए। किट उन्हें भी दी जाय जिनमे कोरोना के लक्षण दिख रहे हों। डीएम ने वाररूम में 24 घंटे डॉक्टर की तैनाती के भी निर्देश दिये ताकि आपात स्थिति में मरीज को देखा जा सके।

उधर कोरोना संक्रमण के प्रभावी रोकथाम के मद्देनजर डीएम ने कुछ अन्य महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए पॉजिटिव आने पर नगर इलाके में पालिका व ग्रामीण इलाके में सेनेटाइज की जिम्मेदारी बीडीओ की तय की। डीपीआरओ को भी निर्देशित किया गया कि वे पूर्व की भांति ग्राम प्रधानों का भी सहयोग लें। इसके अलावा ग्राम प्रधान गांव में बाहर से आने वाले लोगों की सूचना कंट्रोल रूम में देने के साथ ही उन्हें होम आइसोलेशन में रखे। डीएम ने गांव के प्रत्येक सस्ता गल्ला विक्रेता को भी सक्रीय करने के निर्देश जिला पूर्ति अधिकारी को दिए ताकि राशन लेने आने वालों में किसी व्यक्ति में लक्षण दिख रहे हो तो उसकी सूचना कंट्रोल रूम को मिल जाये।

एक अन्य निर्देश में डीएम ने सीएचसी व पीएचसी बड़कोट, नौगांव, मोरी, चिन्यालीसौड़, डुंडा में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा की उपलब्धता रखने के अलावा जो सिलेंडर खाली हैं उन्हें तत्काल भरने को भी कहा।
बैठक में पुलिस अधीक्षक मणि कांत मिश्र,मुख्य विकास अधिकारी पी.सी.डंडरियाल, सीएमओ डॉ. जोशी,एडीएम तीर्थपाल,एसडीएम देवेंद्र नेगी के अलावा अन्य अन्य अधिकारी उपस्थित थे,जबकि एसडीएम पुरोला सोहन सैनी व बड़कोट चतर सिंह चौहान व सभी एमओआईसी वर्चुअल जुड़े।

Leave a Reply

You may have missed