कोरोना ने तोड़ दी सदियों पुरानी मेले की परम्परा , आपसी सौहार्द का प्रतीक है लावड़ का रक्षाबंधन मेला

मौ० रविश / सनसनी सुराग न्यूज

लावड़। क़स्बे में रक्षाबंधन के अवसर पर प्रतिवर्ष आयोजित होने वाला परम्परागत मेला भी कोरोना की भेंट चढ़ गया है। जिसके चलते इस बार मेले का आयोजन नही हो सकेगा।हिन्दू मुस्लिम एकता के प्रतीक रक्षाबंधन मेले को क्षेत्र का सबसे बड़ा त्यौहार माना जाता है। मेले की शुरुआत के बाद शायद पहली बार ऐसा होगा जब रक्षाबंधन पर्व पर मेले का आयोजन नही होगा।

जोगी समाज के लोग लगाते थे छड़ियों का मेला:-

गौरतलब है कि 1914 में लावड़ को क़स्बे का दर्जा मिलने से पहले ही रक्षाबंधन पर्व पर जोगी समाज के लोग छड़ियों का मेला लगाते थे, इसी कारण मेले का नाम रक्षाबंधन मेला पड़ गया। नगर पंचायत के अस्तित्व में आने के बाद अध्यक्षों की देखरेख में मेले की अवधि बढ़ती चली गयी, साथ ही साथ मेले के आयोजन पर भी विशेष ध्यान दिया जाने लगा। वर्तमान में मेले की अवधि दस दिनों की है, जिसमें नगर पंचायत की तरफ से जागरण, रागिनी, कव्वाली, मुशायरा आदि सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होते है। क़स्बे व आसपास के ग्रामीण इलाकों के साथ ही दूर दराज से बड़ी संख्या में लोग मेले का लुत्फ उठाने आते है। जबकि शुरुआत में मेला एक,दो और चार दिवसीय था। लेकिन जैसे जैसे मेले को लेकर लोगो का उत्साह बढ़ा तो दिन भी बढ़ा दिए गए। मेले की लोकप्रियता का इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि मेले के उदघाटन समारोह में क्षेत्रीय विधायक, सांसद, कैबिनेट मंत्री सहित सत्ताधारी दल के कद्दावर नेता मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हो चुके है।

 

फ़ोटो परिचय:-

गत वर्ष आयोजित मेले के कार्यक्रमो की झलकियां।

 

आयोजन न होने से मायूस हुए लोग:-

कोरोना महामारी के चलते सरकार द्वारा गाइडलाइन जारी कर इस प्रकार के आयोजनों पर रोक लगाई गई है। वही आयोजन न होने से बड़ी संख्या में लोगो मे मायूसी छाई हुई है। डॉ खुशनसीब, मोहन सैनी, आरिफ फैज़ी, अनुज शर्मा, आफताब खान, वसीम मुखिया आदि का कहना है कि मेले का आयोजन न होने से लोगो मे मायूसी छाई हुई है। हालांकि महामारी को फैलने से रोकने के लिए आयोजन निरस्त किया गया, जिस कारण सभी लोग संतुष्ट है।

इनका कहना है——

रक्षाबंधन मेला क़स्बे की परंपरा व सौहार्द से जुड़ा है। मेला आयोजन न होने का दुख है। अगले वर्ष बड़े पैमाने पर भव्य आयोजन कराया जाएगा।

अनीसा हारून
चेयरपर्सन नगर पंचायत लावड़

कोविड-19 के चलते देश मे अनलॉक की प्रक्रिया चल रही है। सरकारी गाइडलाइंस के अनुसार मेले का आयोजन नही हो पा रहा है।

सुधीर सिंह
अधिशासी अधिकारी
नगर पंचायत लावड़

Leave a Reply

You may have missed