चित्रकूट जेल में मारा गया पश्चिमी उत्तर प्रदेश का दुर्दांत अपराधी मुकीम काला , साथ में चर्चित माफिया अपराधी मेराज अली भी गैंगवार में ढेर

डॉ0 रणवीर सिंह वर्मा / सनसनी सुराग न्यूज

चित्रकूट जेल से प्राप्त सूचना के अनुसार जिला जेल चित्रकूट की उच्च सुरक्षा बैरक में निरुद्ध अंशु दीक्षित पुत्र जगदीश जो जिला जेल सुल्तानपुर से प्रशासनिक आधार पर स्थानांतरित होकर चित्रकूट में निरूद्ध है ने आज सुबह लगभग 1 0:00 बजे सहारनपुर से प्रशासनिक आधार पर आए बंदी मुकीम काला तथा बनारस जिला जेल से प्रशासनिक आधार पर आए मेराज अली को असलहे से मार दिया तथा पांच अन्य बंदियों को अपने कब्जे में कर लिया .
उन्हें जान से मारने की धमकी देने लगा क्योंकि उसके पास असलहा था ऐसे में जिला प्रशासन को सूचना दी गई चित्रकूट के डीएम और एसपी द्वारा पहुंचकर बंदी को नियंत्रित करने का बहुत प्रयास किया गया किंतु वह पांच अन्य बंदियों को भी मार देने की धमकी देता रहा उसकी आक्रामकता तथा जिद को देखते हुए पुलिस द्वारा कोई विकल्प ना देखते हुए की गई फायरिंग में अंशु दीक्षित भी मारा गया इस प्रकार कुल 3 बंदी इस घटना में में मरे हैं जिसमें
अंशु दीक्षित पुलिस द्वारा जब कि मुकीम काला और मेराजअली को अंशु दीक्षित ने असलहे से मारा है. कारागार में तलाशी कराई जा रही है .
जिलाधिकारी तथा एसपी मौके पर मौजूद हैं तथा घटनाक्रम की जानकारी प्राप्त कर रहे हैं अन्य विवरण प्राप्त होते ही अवगत कराया जाएगा.फिलहाल कारागार में शांति है तथा स्थिति नियंत्रण में है।

मूलतः उत्तर प्रदेश के जनपद शामली के कैराना तहसील के गाँव जहानपुरा में मुस्तकीम के घर पैदा हुआ था मुकीम कला।
जिसके आतंक का साम्राज्य उत्तर प्रदेश से लगते राज्यों उत्तराखंड व दिल्ली तक फैला हुआ था।

बनारस-आखिरी बार जैतपुरा थाने में मेराजुद्दीन की फोटो।

पश्चिमी यूपी के दुर्दांत अपराधी मुकीम काला का आपराधिक इतिहास

कैदी अंशुल दीक्षित ने पिस्टल से अपने सहबन्दियो पर सुबह लगभग 10 :बजे गोली चलाई थी । जिसमे मुकीम काला और मेंराजूदीन की मौत हो गई थी ।सूचना पर पहुचे पुलिस अधीक्षक अंकित व पुलिस ने जब आत्मसमर्पण के लिए अंशुल दीक्षित को कहा गया तो पुलिस के ऊपर पिस्टल से फायरिंग कर दी । आत्मरक्षा के लिए पुलिस ने भी फायरिंग किया जिसमे अंशुल की गोली लगने से मौत हो गईं।

 

मेराज का आपराधिक इतिहास

 

 

चित्रकूट जेल में शूटआउट के मास्टरमाइंड अंशु दीक्षित की लगातार वीडियो हो रही वायरल, फोन पर बात करने के बाद अंशुल की एक और वीडियो हुई वायरल, अंशुल दीक्षित ने अपने और अपने साथियों की हत्या कराने का लगाया था जेल प्रशासन पर गंभीर आरोप।

 

 

बाइट- अंकित मित्तल (एसपी चित्रकूट)

 

 

*लखनऊ*

चित्रकूट जेल में हुए गैंगवार पर डीजी जेल आनंद कुमार का बयान।

जेल में हुई घटना दुःखद है इनकी बड़े पैमाने पर जांच होंगी।

दोषियों को बिल्कुल बक्शा नही जाएगा।

जेल में तमंचा कहाँ से आया है किसने पहुचाया जांच की जा रही है।

जेल में हुई घटना में तीन लोगों की मौत हुई है।

मेराजुद्दीन मुकीम काला व अंशुल अवस्थी की मौत हुई है।

आज शाम तक जिम्मेदारों पर सस्पेंशन की कार्यवाई हो सकती है।

जुडिशरी जांच कराई जाएगी किसी को छोड़ा नही जाएगा।

Leave a Reply

You may have missed