उत्तरकाशी : दुर्भाग्य ! साढ़े बारह बजे दिन के बाद उत्तरकाशी से देहरादून जाने के लिये बस नहीं

 

  • संतोष साह

उत्तराखंड बने 21 साल पूरे हो गए हैं मगर उत्तरकाशी से आधे दिन के बाद देहरादून के लिये आज भी बस मयस्सर नहीं है। जनप्रतिनिधि कारों में चलते हैं इसलिये उन्हें बस चले या न चले कोई फर्क नही पड़ता है, दिक्कत है तो पब्लिक की है और पब्लिक की तकलीफ कौन महसूस करेगा,भगवान ही मालिक है।
उत्तरकाशी से देहरादून की दूरी 140 किलोमीटर बताई जाती है। दोपहर साढ़े बारह बजे रोडवेज की अंतिम बस उत्तरकाशी से देहरादून के लिये निकलती है,कमोबेश यही रूटीन और हाल देहरादून से उत्तरकाशी की ओर भी है।

कम दूरी के बावजूद साढ़े बारह बजे के बाद कई पैसेंजर जिन्हें देहरादून से उत्तरकाशी या फिर उत्तरकाशी से देहरादून जाना होता है बस न होने से परेशान नजर आते हैं। टैक्सी सेवा तो है मगर किराए का डिफरेंट और सवारी पूरी तरह से भरने के बाद ही निकलने को लेकर सवारी बगैर सफर के ही टूट जाती है। यही नही बस का भाड़ा जहां 300 रुपये है तो वहीं टैक्सी का भाड़ा 400 रुपये कहीं मेल नहीं खाता,यही वजह है कि लोग बस सेवा की राह देखते हैं ताकि बस में 100 रुपये की बचत के साथ ही वह आराम से सफर कर सके।

इधर तमाम लोगों की राय में उत्तरकाशी से देहरादून और देहरादून से उत्तरकाशी के लिये अंतिम बस का समय दिन में 2 बजे से 3 बजे के बीच के दरमियान होना चाहिए जिससे लोगों को बड़ी राहत मिलेगी। इसके लिये रोडवेज को सेवा बढ़ानी चाहिए।

You may have missed