उत्तरकाशी : भारत-पाक युद्ध 1971 के 50 वर्ष होने पर स्वर्णिम विजय वर्ष मनाया

  • संतोष साह

भारत-पाक युद्ध 1971 के पचास वर्ष पूर्ण होने पर इसे स्वर्णिम विजय वर्ष के रूप मनाया गया। शहीद गार्ड्स मैन सूंदर सिंह की पत्नी अमरा देवी ने सर्वप्रथम स्वर्णिम विजय मशाल को पुष्पांजलि अर्पित की। तदोपरांत मुख्य अतिथि डीएम मयूर दीक्षित, कर्नल राजेन्द्र प्रसाद ,रावल हरीश सेमवाल, कमांडर हेमंत कुमार, सूबेदार रोशन कुमार आदि ने पुष्पांजलि अर्पित की। इस मौके पर डीएम ने कहा कि आज हर देशवासी शौर्य की इस गाथा को स्मरण कर रहा है। उन्होंने कहा कि 1971 के युद्ध मे भारतीय सेना की विजयगाथा में उत्तराखंड के रणबांकुरों का बलिदान भुलाया नहीं जा सकता। श्री दीक्षित ने कहा कि भारतीय सेना का गौरवशाली इतिहास हमेशा से युवाओं के लिये प्रेरण का स्रोत रहा है।
उधर स्वर्णिम विजय वर्ष के उपलक्ष्य में छात्र-छात्राओं में भाषण प्रतियोगिता भी आयोजित हुई। जिसमें 10 वीं कक्षा के बालिका वर्ग में एमडीएस की आरोही नौटियाल प्रथम,ऋषिराम की शिक्षा मराठा द्वितीय रही। बालक वर्ग में एमडीएस के आकाश सेमवाल प्रथम,जीआईसी उत्तरकाशी के आदित्य प्रसाद द्वितीय स्थान पर रहे। उधर 12वीं कक्षा में केंद्रीय विद्यालय की ईशा नौटियाल प्रथम व जीजीआईसी उत्तरकाशी की अर्चना नौटियाल द्वितीय रही। बालक वर्ग में जीआईसी उत्तरकाशी के खेमराज प्रथम व सचिन चौहान दूसरे स्थान पर रहे जिन्हें मुख्य अतिथि द्वारा ट्रॉफी देकर पुरुस्कृत किया गया।

Leave a Reply

You may have missed