भगवान वाल्मीकि सभी के लिए पूजनीय – अरविंद संगल

डॉ0 रणवीर सिंह वर्मा/सनसनी सुराग न्यूज

भगवान वाल्मीकि जी ने संसार को अक्षर ज्ञान दिया है और अध्यात्मिक ज्ञान दिया है,
भगवान वाल्मीकि आदिकाल के प्रथम कवि हैं और वाल्मीकि जी ने विश्व के कल्याण के लिए श्री राम के जन्म से पूर्व महाकाव्य रामायण हजारों वर्ष पूर्व लिख दी थी रामायण ऐसा पवित्र ग्रंथ है जिसे जितनी बार पढ़ते हैं उतना ही ज्ञान मिलता है जैसे दूध को मथने से मक्खन निकल आता है उसी प्रकार से रामायण को बार-बार पढ़ने से अत्यधिक ज्ञान प्राप्त होता है हम सभी लोगों को वाल्मीकि जी के बताए मार्ग पर चलें और अपना जीवन सफल करें और भगवान वाल्मीकि जी सभी के लिए पूजनीय हैं ।
उक्त विचार भगवान वाल्मीकि प्रकटोत्सव विचार गोष्टी जो
आज शामली 19 अक्टूबर 2021 दिन मंगलवार प्रातः 11:00 बजे शामली नगर पालिका परिषद के ऊपरी हॉल में मनाई गई उसमे मुख्य अतिथि , निवर्तमान चैयरमैन अरविन्द संगल ने व्यक्त किये ।


भगवान वाल्मीकि प्रकट उत्सव राष्ट्रीय वाल्मीकि समाज प्रतिनिधि मंच के तत्वधान में बड़े हर्ष उल्लास के साथ मनाया गया, इस अवसर पर एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें मुख्य अतिथि अरविंद संगल पूर्व चेयरमैन नगर पालिका परिषद शामली एव विशिष्ट अतिथि चौधरी राजवीर सिंह मुंडेट, राष्ट्रीय अध्यक्ष भारतीय किसान मजदूर संयुक्त यूनियन , दीपक सैनी जिलाध्यक्ष अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी, अनुज गौतम नगर अध्यक्ष कांग्रेस एवं नंदू प्रसाद वाल्मीकि संस्थापक संयोजक राष्ट्रीय वाल्मीकि समाज प्रतिनिधि मंच रहे
सभा की अध्यक्षता रामस्वरूप बाल्मीकि पूर्व सभासद थानाभवन ने की
संचालन डॉक्टर ओमपाल शाहपुर ने किया ।
मुख्य अतिथि पूर्व चेयरमैन अरविंद संगल जी ने अपने संबोधन में आगे कहा कि समाज को अपने बच्चों को अधिक से अधिक पढ़ाना चाहिए जिससे आगे जाकर बच्चे अपने परिवार, समाज व देश की तरक्की में सहायक हो ।
चौधरी राजबीर सिंह जी ने कहा कि भगवान वाल्मीकि जी ने रामायण लिख कर संसार संसार का कल्याण किया है और संसार का मार्गदर्शन किया है सत मार्ग दिखाया है । दीपक सैनी जी ने अपने संबोधन में कहा कि महर्षि वाल्मीकि आदिकाल में कवियों में श्रेष्ठ कवि हुए हैं और उन्होंने यह महारामायण सुंदर कविता एवं पवित्र ग्रंथ रामायण संसार के कल्याण के लिए रचा है भगवान वाल्मीकि जी के बताए मार्ग पर चलने के लिए कहा ।
राष्ट्रीय वाल्मीकि समाज प्रतिनिधि मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष अरविंद झंझोट ने अपने संबोधन में कहा कि भगवान वाल्मीकि ने श्री महा रामायण पवित्र ग्रंथ संसार के कल्याण के लिए लिखा है और भगवान वाल्मीकि प्रकट उत्सव ऐसा पर्व है जो पूरे भारतवर्ष में पूरे अक्टूबर माह में मनाया जाता है इस पर्व को सभी सामाजिक संगठन एवं राजनीतिक संगठन मिलजुल कर मनाते हैं भगवान वाल्मीकि जी ने शिक्षा का महत्व और आध्यात्मिक महत्व जो संसार को बताया है उनके बताए मार्ग पर चलकर अपना जीवन सफल करें ।
मुख्य अतिथि अरविंद संगल जी चौधरी राजबीर सिंह जी दीपक सैनी जी एवं अरविंद झंझोट जी नंदू प्रसाद आदि ने संगठन के लोगों के साथ संयुक्त रुप से भगवान वाल्मीकि को माल्यार्पण की और पुष्प अर्पित किए और दीप प्रज्वलित किया
और भगवान वाल्मीकि का गुणगान किया ।
कार्यक्रम में अनुज गौतम , सोनू चावला पूर्व सभासद, डॉक्टर राजीव कुमार वशिष्ठ, विनोद सेन, लोकेश कटारिया, डॉक्टर श्रीपाल, राजीव कुमार बिंडला, प्रमोद कश्यप, अरुण झंझोट, विशाल कुमार, देवानंद वाल्मीकि, परविंदर कुमार, टिंकू गोस्वामी, मुकेश झंझोट, गोविंद चंद्र एवं साहिल चंद्रा शामिल रहे और डॉक्टर ओमपाल शाहपुर ने कार्यक्रम एवं विचार गोष्ठी का संचालन किया । कार्यक्रम पश्चात सभी को भगवान वाल्मीकि प्रकट उत्सव के अवसर पर मिष्ठान प्रसाद वितरण किया गया

अरुण झंझोट
सचिव
राष्ट्रीय वाल्मीकि समाज प्रतिनिधि मंच शामली

You may have missed