भगवान शंकराचार्य के बगैर सनातन धर्म की कल्पना नहीं,अयोध्या में शंकराचार्य का भी मंदिर बने : संत समाज

 

  • संतोष साह

मुंबई में शंकराचार्य वाह्य सेवा परिषद की गोष्ठी में वैचारिक मंथन के उपरांत संत समाज ने सनातन धर्म उद्धारक भगवान शंकराचार्य के अयोध्या में मंदिर निर्माण किये जाने की मांग की है। मुंबई में देशभर से आये संत ,महात्माओ ने हर्ष ध्वनि से अपने मंतव्य से इस बात को स्वीकृति प्रदान की। विचार मंथन में देशभर से आये संरो ने कहा कि अयोध्या में शंकराचार्य का मंदिर भी बने इसके लिये सम्पूर्ण संत समाज एक स्वर में जन-मन-तन-धन समर्थन के लिये सरकार एवं सनातन धर्मावलंबियों को प्रेरित करेगा। मुंबई स्थित माता अमृतनंदामयी मठ में दो दिन चली विचार गोष्ठी के सम्पूर्ण आयोजक व प्रेणता श्री शंकर भारती योगनन्देशवर सरस्वती मठ रहे। गोष्ठी का संचालन महामंडलेश्वर स्वामी चिदंबरानंद सरस्वती महाराज ने किया। गोष्ठी में विचार व्यक्त करने वाले संतों में महामंडलेश्वर पुण्यानंद गिरी हरिद्वार,विश्वेस्वरा नंद गिरी सूरत,गुजरात,महाराज सूरत गिरी हरिद्वार,गोविंद देव गिरी कोषाध्यक्ष श्री राम जन्म भूमि ट्रस्ट अयोध्या,महामंडलेश्वर प्रणव चैतन्य पुरी हरिद्वार,महामंडलेश्वर अशुतोषा नंद गिरी काशी,महामंडलेश्वर प्रणवा नंद सरस्वती इंदौर,महामंडलेश्वर विश्वेस्वरा नंद गिरी रोहतक,महामंडलेश्वर चंद्रेश्वर गिरी उत्तर प्रदेश,महाराज हरिब्रमहोद्रानंद उत्तरकाशी,महामंडलेश्वर शंकरानंद सरस्वती महाराज मुंबई,विमारशानंदगिरी महाराज बीकानेर,स्वामी चिदानंद पूरी महाराज केरल,विविक्ता नंद महाराज केरल,चैतन्या नंद पुरी महाराज तमिलनाडु,मुक्तानंद पूरी राजस्थान,श्री शारस्वता नंद सरस्वती महाराज उड़ीसा,निखिलानंद सरस्वती महाराज दिल्ली,हरिहरानंद सागर महाराज प्रयाग,सत्यदेवानन्द महाराज मुंबई,श्री शंकरामृता नंद पुरी महाराज केरल ,अब्ययामृतानंदपुरी महाराज मुंबई एवं ब्रह्मोशा नंद महाराज गोवा शामिल रहे।