बद्रीनाथ से आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी, श्री उद्धव, कुबेर आज पांडुकेश्वर में हुए विराजमान

 

  • संतोष साह

 

बदरीनाथ धाम से आज सुबह 10 बजे प्रात:आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी, श्री उद्धव,श्री कुबेर की डोली ने रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी सहित गढ़वाल स्काट के बैंड के भक्तिमय धुनों की स्वर लहरियों के साथ पांडुकेश्वर जोशीमठ प्रस्थान किया। इस अवसर पर संपूर्ण बदरीनाथ धाम जय बदरीविशाल की जयघोष से गूंज उठा। गौरतलब है कि बीती शाम को श्री बदरीनाथ धाम के कपाट शीतकाल हेतु बंद हो गये थे।

उधर आज बद्रीनाथ से देवडोलियां दिन में 12.30 बजे श्री योग बदरी पांडुकेश्वर पहुंची। रास्ते भर में देव डोलियों का भब्य स्वागत हुआ।

 

श्री उद्धव जी, श्री कुबेर जी सहित श्री रावल जी एवं आदिगुरु शंकराचार्य जी की पवित्र गद्दी इस तरह योग बदरी पांडुकेश्वर पहुंची।अब कल आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी के साथ दिन तक श्री नृसिंह बदरी जोशीमठ पहुंचेगी।इसी के साथ पांडुकेश्वर एवं जोशीमठ में शीतकालीन पूजाएं शुरू हो जायेंगी।

You may have missed