उत्तरकाशी : कथा वाचक आचार्य मानस प्रेमी के निधन से शोक की लहर

 

 

  • संतोष साह

 

 

प्रसिद्ध व ख्याति प्राप्त कथा वाचक शांति प्रसाद मानस प्रेमी के आकस्मिक निधन पर जिले में शोक की लहर है। देहरादून में एक धार्मिक आयोजन के दौरान उनकी तबियत बिगड़ने के बाद मौत हो गई। उनकी मौत की खबर सुन जिले में ही नहीं बल्कि देश के विभिन्न प्रान्तों में उनके अनुयायियों को गहरा धक्का लगा है। मृदु भाषी, मिलनसार,शांत स्वभाव को लेकर भी मानस प्रेमी जाने जाते थे।

दिवंगत मानस प्रेमी ने मांडो गांव उत्तरकाशी में शांति कुटीर की स्थापना की थी। उनकी भराड़ी देवी में आस्था थी लिहाजा उन्होंने भराड़ी देवी मंदिर भी स्थापित किया था। उत्तरकाशी में गंगा दशहरा पर्व मनाने की भी उन्होंने ही शुरुआत की थी और वे गंगा दशहरा पर्व के संयोजक भी रहे। इसके अलावा चार धम्म देवस्थानम बोर्ड को पूर्व में थोपे जाने को लेकर भी उन्होंने अपना विरोध दर्ज किया था।