उत्तराखण्ड में कृषि व खाद्य प्रसंस्करण, स्किल डेवलपमेंट, इन्टिग्रेटेड टाउनशिप डेवलपमेंट सहित विभिन्न क्षेत्रों में सिंगापुर व पनामा का लिया जाएगा सहयोग

उत्तराखण्ड में कृषि व खाद्य प्रसंस्करण, स्किल डेवलपमेंट, इन्टिग्रेटेड टाउनशिप डेवलपमेंट सहित विभिन्न क्षेत्रों में सिंगापुर व पनामा का लिया जाएगा सहयोग

- in Dehradun
50
0

 

देहरादून / सनसनी सुराग

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से पनामा में भारतीय राजदूत रवि थापर तथा सिंगापुर में भारतीय उच्चायुक्त जावेद अशरफ ने भेंट की।

उत्तराखण्ड के विकास में सिंगापुर व पनामा से विभिन्न क्षेत्रों में निवेश व तकनीकी सहयोग पर किया गया विचार विमर्श।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से पनामा में भारतीय राजदूत रवि थापर तथा सिंगापुर में भारतीय उच्चायुक्त जावेद अशरफ ने भेंट की। बुधवार को मुख्यमंत्री आवास, देहरादून में हुई मुलाकात में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा भारत के सभी राज्यों द्वारा दुनियाभर के देशों में व्यापार व निवेश सम्बन्धी अधिकाधिक भागीदारी बढ़ाए जाने की पहल को मजबूती देने के क्रम में विचार विमर्श किया गया।

सिंगापुर में भारतीय उच्चायुक्त जावेद अशरफ द्वारा मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र को जानकारी दी गई की सिंगापुर को अरबन प्लानिंग (शहरी नियोजन), रेन वाटर हार्ववेस्टिंग, वाटर रिसाइक्लिंग , सोलिड वेस्ट मेनेजमेंट (ठोस अवशिष्ट प्रबन्धन), स्किल डेवलेपमेंट, वेस्ट से बिजली उत्पादन, औद्योगिक पार्को की स्थापना तथा खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में विशेषज्ञता प्राप्त है। सिंगापुर द्वारा उत्तराखण्ड को उक्त क्षेत्रों में तकनीकी सहायता व निवेश सम्बन्धित सहयोग दिया जा सकता है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि राज्य सरकार 13 डिस्ट्रिक्ट-13 न्यू डेस्टिनेशन योजना के तहत राज्य में नए पर्यटक स्थल व टाउनशिप विकसित करने पर गम्भीरता से कार्य कर रही है। नए पर्यटक स्थल व टाउनशिप विकसित करने तथा वर्तमान शहरों के नियोजन में सिंगापुर से सहायता ली जा सकती है। पनामा में भारतीय राजदूत श्री रवि थापर द्वारा बताया गया कि पनामा में टी प्लान्टेशन के क्षेत्र में अच्छा कार्य हो रहा है। पनामा द्वारा उत्तराखण्ड चाय बोर्ड के साथ इस राज्य में चाय की बागवानी को बढ़ावा देने के लिए तकनीकी व विशेषज्ञ सहायता दी जा सकती है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि सिंगापुर व पनामा के विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञांे तथा उत्तराखण्ड के मुख्य सचिव व उच्च प्रशासनिक अधिकारियों के मध्य विडियो कान्फ्रेसिंग के द्वारा विभिन्न क्षेत्रों के अनुभवों को साझा किया जा सकता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में जैविक खेती के क्षेत्र में व्यापक संभावनाएं है। साथ ही राज्य में डिजिटल कनेक्टिविटी, सिविल एविएशन, आॅल वेदर रोड के सुदृढीकरण पर विशेष फोकस किया जा रहा है। राज्य में निवेशकों के लिए फ्रेंडलीे सिस्टम विकसित किया जा रहा है। सिंगल विंडो सिस्टम लागू किया गया है। राज्य की भौगोलिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए  आईटी नेटवर्क को मजबूत किए जा रहा है। युवाओं के कौशल विकास पर विशेष बल दिया जा रहा है। राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति बेहतर है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सिंगापुर व पनामा में कृषि के क्षेत्र में हुई बेस्ट प्रेक्टिसज का लाभ उत्तराखण्ड के किसानो तक पहुंचाने का प्रयास किया जाएगा। सिंगापुर व पनामा के साथ विभिन्न क्षेत्रों में निवेश, अनुभवों को साझा करने तथा तकनीकी सहयोग व विशेषज्ञों के साथ निरन्तर संवाद बनाए रखने के लिए प्रत्येक विभाग में नोडल अधिकारी निर्धारित किए जाए। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि राज्य में इन्टिग्रेटेड टाउनशिप डेवलपमेंट तथा आईटी पार्क व स्किल डेवलपमेन्ट केंद्र  स्थापित  करने में सिंगापुर व पनामा  से तकनीकी व विशेषज्ञ सहयोग लिया जाएगा।

बैठक में सचिव अमित नेगी, आर.मीनाक्षी सुन्दरम एवं राधिका झा भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पहाड़ी क्षेत्रों में पार्किंग प्रबन्धन पर विशेष ध्यान दिया जाए: मुख्यमंत्री

  देहरादून / सनसनी सुराग जिला स्तरीय अधिकारियों