उत्तरकाशी: डीएम ने समाधान पोर्टल में दर्ज शिकायतों की समीक्षा करते हुए पोर्टल में पंजीकृत शिकायतों को निस्तारित करने के दिए निर्देश।

उत्तरकाशी: डीएम ने समाधान पोर्टल में दर्ज शिकायतों की समीक्षा करते हुए पोर्टल में पंजीकृत शिकायतों को निस्तारित करने के दिए निर्देश।

- in Uttarkashi
114
0

वीरेंद्र सिंह /सनसनी सुराग

जिलाधिकारी आषीश चौहान ने समाधान पोर्टल में दर्ज षिकायतों की समीक्षा करते हुए पोर्टल में पंजीकृत षिकायतों का प्राथमिकता से समयावधि के भीतर निस्तारित करने के निर्देष संबंधित अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि जिन अधिकारियों द्वारा षिकायतों का समय के भीतर निस्तारण नहीं किया जाएगा उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही अमल में लायी जाएगी। पोर्टल में कुल 109 षिकायतें दर्ज हुई जिसमें से 89 षिकायतें निस्तारित कर दी गई है। 20 षिकायतों का निस्तारण अपेक्षित है।
भारत भूशण द्वारा विकास खण्ड चिन्यालीसौड़ के अन्तर्गत मंदिर सौन्द्रीर्यीकरण के दौरान वित्तीय अनियमितता कर भुगतान किए जाने की षिकायत की गई। जिस पर दोशियों के बिरूद्ध प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की गई। जिस पर जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी को एक सप्ताह के भीतर जांच कर रिर्पोट प्रस्तुत करने के निर्देष दिए। षार्दुल गुसांई द्वारा जोषियाड़ा स्थित विदेषी मदिरा की दुकान पर ओवर रेट पर षराब बिक्री की षिकायत करते हुए बिल मांगने पर न देने की षिकायत भी की। साथ ही आबकारी विभाग द्वारा कोई कार्यवाही न करने की भी षिकायत की। जिस पर जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारी भटवाड़ी को दो दिन में जांच कर रिर्पोट प्रस्तुत करने के निर्देष दिए। सूरज प्रताप द्वारा दो साल से एनएमएसएस (नेषनल मिन्स छात्रवृत्ति) और अनुदान राषि नहीं मिलने की षिकायत की गई। जिस पर मुख्य षिक्षाधिकारी ने बताया कि उक्त छात्र वृत्ति की राषि षासन से सीधे छात्रों के खाते में जाती है। इनकी षिकायत पर षासन को पत्र प्रेशित किया गया है। गणेष प्रसाद भट्ट ने गोफियारा नामे तोक में अवैध निर्माण की षिकायत की। जिस पर जिलाधिकारी ने अधिषासी अधिकारी नगर पालिका परिशद बाड़ाहाट को जांच के निर्देष दिए। षैलेन्द्र रावत ने गैस होम डिलेवेरी की षिकायत की जिस पर पूर्ति अधिकारी के द्वारा अवगत कराया गया कि षैलेन्द्र रावत का गैस संयोजन एचपी कम्पन्नी का है जिसका संचालन डुण्डा क्षेत्र से होता है। इनके क्षेत्र में इण्डियन गैस द्वारा होम डिलेवरी की जाती है। सुन्दर सिंह खम्पा द्वारा हर्शिल ककोड़ गाड़ जल संस्थान पानी टेंक से लेकर आर्मी क्षेत्र से गंगा तट तक बाढ़ नियंत्रण दिवार लगाने की मांगी की गई। जिस पर जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी को प्राथमिकता से सर्वे कराने के निर्देष दिए। रणजीत सिंह बिश्ट ने ऋशि राम षिक्षण संस्थान जोषियाड़ा द्वारा नाजायज फीस लिए जाने की षिकायत की। जिस पर जिलाधिकारी ने मुख्य षिक्षाधिकारी को तीन दिन के भीतर जांच कर निस्तारण के निर्देष दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मेरठ — सांसद ने किया दौड़ प्रतियोगिता का उदघाटन

  दौराला/मेरठ मौ० रविश कल सुबह क़स्बा स्थित