उत्तरकाशी: उद्यमी क्षेत्र में उद्योग के चलने की सम्भावनाओं को देखते हुए प्रस्ताव प्रस्तुत करें- जिलाधिकारी

उत्तरकाशी: उद्यमी क्षेत्र में उद्योग के चलने की सम्भावनाओं को देखते हुए प्रस्ताव प्रस्तुत करें- जिलाधिकारी

- in Uttarkashi
76
0

वीरेंद्र सिंह/उत्तरकाशी

उद्यमी क्षेत्र में उद्योग के चलने की सम्भावनाओं को देखते हुए प्रस्ताव प्रस्तुत करें ताकि षीर्घता से स्वीकृत किए जा सकें। यह बात जिलाधिकारी डा. आषीश चौहान ने जिला उद्योग मित्र की बैठक लेते हुए कही। उन्होंने कहा कि बेरोजगार उद्यमों को स्वरोजगार से जोड़ने हेतु यह बेहतर प्लेटफार्म है इसलिए अधिक से अधिक युवा एवं उद्यमियों को सूक्ष्म एवं लघु उद्योग को लगाने हेतु प्रोत्साहित किया जाए।

जिलाधिकारी ने कहा कि उद्यमी भली भांती क्षेत्र में उद्योग की चलने की सम्भावनाएं जांच परख लें तभी प्रस्ताव बनाकर उद्योग विभाग में जमा करें ताकि जोखिम कम हो व षीर्घता से उद्योग लगाने की स्वीकृति मिल सकें। उन्होंने लम्बे समय से गणेषपुर व डुण्डा औद्योगिक आस्थानों में उद्योग लगाने हेतु आवंटित भ-ूखण्डों पर अभी तक उद्योग न संचालित करने वालों को चिन्ह्ति करने हेतु अपर जिलाधिकारी, वरिश्ठ कोशाधिकारी, महाप्रबन्धक उद्योग, जिला अग्रणी बैंक अधिकारी की समिति गठित करते हुए 10 दिन के भीतर सर्वे करते हुए जिनके द्वारा उद्योग नही चलायें जा रहें हैं उनका आवंटन निरस्त करने के निर्देष दिए। ताकि जरूरत मंद उद्यमों को आवंटित किया जा सकें। उन्होंने कहा कि औद्योगिक आस्थानों की भूमि में तुरन्त अवैध कब्जें हटाते हुए भूमि के चारों ओर घेरबाड़ कराने के निर्देष भी दिए।

समिति के द्वारा चयनित उद्यमियों को बैंकर्स के द्वारा अनावष्यक रूप से ऋण देने में देरी करने पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुए आगामी उद्योग मित्र की बैठक में संबंधित बैंकर्स को भी बुलाने के निर्देष महाप्रबन्धक उद्योग को दिए।

महाप्रबन्धक उद्योग एस.एस रावत ने बताया कि मैसर्स उतम स्टील फैबरीकैषन व मैसर्स गणेष राणा को बैंक द्वारा ऋण स्वीकृत किया जा चुका है, किन्तु अभी तक वितरण नहीं किया गया है। जिस पर जिलाधिकारी ने एक सप्ताह में औपचारिकताएं पूर्ण कर ऋण वितरण करने के निर्देष दिए । मैसर्स आयूश इंटर प्राईजेज का प्रस्ताव स्टेट बैंक उत्तरकाषी को प्रस्तुत किया गया था बैंक द्वारा ऋण स्वीकृत किया जा चुका है मगर इकाई द्वारा अंषदान जमा नहीं किया गया है अंषदान जमा करने के बाद ही ऋण वितरण की कार्यवाही की जाएगी। एकल खिड़की के अन्तर्गत मिनी औद्योगिक आस्थान सेंणी डुण्डा व गणेषपुर में उद्योग लगाने के लिए सात उद्यमियों द्वारा भू-खण्ड आवंटन हेतु प्रार्थना पत्र दिए हैं। जिस पर जिलाधिकारी ने कहा कि मुख्य विकास अधिकारी, महाप्रबन्धक उद्योग, वरिश्ठ कोशाधिकारी, जिला अग्रणी बैंक अधिकारी प्राप्त सभी प्रस्ताव के चलने की सम्मभावनाओं का संयुक्त सर्वे कर संतुश्ट होने पर ही आस्थानों में भूमि उपलब्ध कराने की कार्यवाही की जाएगी।

बैठक में वरिश्ठ कोशाधिकारी हिमानी स्नेही, अग्रणी लीड बैंक अधिकारी बीएस तोमर,जिला ग्रामोद्योग अधिकारी एचएल आर्य,राज्य कर निरीक्षक पूरण सिंह, सहायक अभियंता डीआरडीए डीडी रतूड़ी, पुश्पा चौहान, दिनेष भट्ट, अर्जून सिंह,संगीता षाह,परम सिंह आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

चौसाना के पत्रकार पर हुये हमले की निंदा

जनपद शामली/डॉ रणवीर सिंह वर्मा कांधला । प्रेस