उत्तरकाशी: मुख्यमंत्री रावत ने ली वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा प्राकृतिक आपदा से संबंधित क्षतिग्रस्त परिसंपत्तियों की जानकारी।

उत्तरकाशी: मुख्यमंत्री रावत ने ली वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा प्राकृतिक आपदा से संबंधित क्षतिग्रस्त परिसंपत्तियों की जानकारी।

- in Uttarkashi
132
0

वीरेंद्र सिंह/उत्तरकाशी

बुधवार देर रात प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मानसून सत्र के दौरान जनपद उत्तरकाशी में प्राकृतिक आपदा से जनहानि, पशुहानि,व क्षतिग्रस्त परिसम्मपतियों की जानकारी जिलाधिकारी से ली।

एनआईसी कक्ष में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा जनपद उत्तरकाशी की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी डा. आशीष चौहान ने चालू मानसून अवधि में जनपद में प्राकृतिक आपदा से मानव क्षति सहित क्षतिग्रस्त परिसम्मपतियों का ब्योंरा दिया। जिलाधिकारी डा. चौहान ने कहा कि चालू मानसून सत्र के दौरान प्राकृतिक आपदा से जनपद में 21 लोगों की मौत एवं 11 लोग घायल हुए थे। मानव क्षति में तहसील भटवाड़ी में 17, बड़कोट में 01 एवं मोरी में 03 लागों की मृत्यु हुई है। जबकि तहसील बड़कोट में 02 लोग घायल हुए है मोरी में 03, डुण्डा में 01, एवं भटवाड़ी में 05 लोग घायल हुए थे। 07 मृतक आश्रितों को 28 लाख रूपये वितरित किए गए है। जबकि शेष 14 मृतकों के आश्रितों को अनुमन्य अनुग्रह राशि वितरण की कार्यवाही की जा रही है। साथ ही जनपद में 138 बड़े एंव छोटे पशु हानि हुई है पशु हानि में 13 लाख 27 हजार मुआवजा राशि वितरण कर दी गई।

जिलाधिकारी श्री चौहान ने माननीय मुख्यमंत्री जी को जानकारी देते हुए कहा कि जनपद में 233 भवन प्राकृतिक आपदा से प्रभावित हुए जिसमें 05 भवन पूर्णतया क्षतिग्रस्त हुए है जबिक 55 तीक्ष्ण एवं 173 भवन आंशिक क्षतिग्रस्त हुए है। उन्होंने कहा कि भवन क्षतिग्रस्त का मुआवजा 11 लाख 42 हजार 900 रूपये वितरण किए जा चुके है। वहीं जनपद में 635.102 हैक्टियर फसलों की क्षति हुई है जिसमें 37 लाख 25 हजार 322 रूपये का मुआवजा किसानों को वितरण किए जा चुके है। कृषि भूमि 14.020 हेक्टियर की क्षति हुई है, क्षति का विस्तृत सर्वेक्षणोपरान्त राहत की कार्यवाही की जाएगी।

जिलाधिकारी ने कहा कि यमुनोत्री धाम में अतिवृष्टी के कारण यमुना नदी का जलस्तर बढ़ने से यमुनोत्री धाम में 13 ढाबे/होटल/दुकान तथा जानकीचट्टी में 11 लोगों के ढाबे/होटल/ दुकान क्षतिग्रस्त हुए थे। जबकि तहसील भटवाड़ी के धराली मघ्ये खीरगाड में आए मलबे/बोल्डर के कारण बाजार में 66 लोगों के व्यवसायिक होटल/लॉज/दुकानें क्षतिग्रस्त हुई थी।

माननीय मुख्यमंत्री श्री रावत ने यमुनोत्री धाम में अतिवृष्टी से हुए नुकसान एवं बाढ सुरक्षा कार्य व धाम को सुरक्षित करने के लिए उच्च स्तरीय मास्टर प्लान बनाने के निर्देश जिलाधिकारी को दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि यमुनोत्री धाम में खुली जगह न होने के कारण दिक्कते आ रही है। इसके लिए विस्तृत मास्टर प्लान के साथ बेहतरीन कार्य योजना बनायीं जाए। उन्होंने प्राकृतिक आपदा से क्षतिग्रस्त परिसम्मपतियों के अहेतुक राशि के वितरण में तेजी लाने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने प्रदेश भर में पॉलीथीन एवं ड्रग्स को पूर्णतया बंद करने के निर्देश जिलाधिकारियों को दिए। उन्होंने जनपद स्तर पर पॉलीथीन को बंद करने के लिए व्यापक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनपद स्तर पर नगर पालिका, नगर पंचायत क्षेत्र में पॉलीथीन को पूर्णतया बंद करने को लेकर लोगों के अन्दर जन जागरूकता लाने के साथ-साथ लाउडस्पीकर,माईक से पॉलीथीन बंद करने का एलाउसमेंट करवाएं। ड्रग्स एवं सोशल मीडिया के दुरपयोग पर रोक लगाने हेतु जनपद स्तर पर पुलिस प्रशासन को निर्देश दिए गए।

बैठक में डीएफओ संदीप कुमार,पुलिस अधीक्षक ददनपाल, मुख्य विकास अधिकारी प्रशान्त आर्य, अपर जिलाधिकारी हेमंत वर्मा, बीआरओ के मेजर सत्यजीत मोहंती,उप जिलाधिकारी देवेन्द्र सिंह नेगी, मुख्य चिकित्साधिकारी डा. विनोद नौटियाल, सीवीओ डा. प्रलंयकरनाथ, मुख्य कृषि अधिकारी महिधर सिंह तोमर, अधिशासी अभियंता राजेन्द्र खत्री, मुख्य शिक्षाधिकारी आरसी आर्य, एलआयू इंस्पेक्टर प्रवीण चौधरी, जिला आपदा प्रबन्धन अधिकारी देवेन्द्र पटवाल, आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी: डीएम व विधायक ने किया जनपद में प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना आयुष्मान भारत का संयुक्त रूप से शुभारम्भ।

सनसनी सुराग/उत्तरकाशी देष व प्रदेष के साथ ही