उत्तरकाशी: इक्कीस भिखारियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, यात्रियों को करते थे जबरन परेशान।

उत्तरकाशी: इक्कीस भिखारियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, यात्रियों को करते थे जबरन परेशान।

- in Uttarkashi
974
0

 

वीरेंद्र सिंह/उत्तरकाशी

16 मई, 2018

उत्तरकाशी। भिक्षुक अधिनियम के तहत कोतवाली पुलिस ने 21 भिक्षुकों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है। विश्वनाथ मंदिर के बाहर ये भिखारी आने-जाने वाले पर्यटकों और लोगों से जबरन भीख मांगते थे और उनसे अपशब्दों का इस्तेमाल करते थे।गिरफ्तार भिक्षुकों में 17 पुरुष व 4 महिलाएं हैं। सभी को आज न्यायालय में पेश किया जाएगा। इससेपहले चमोली जिले की कोतवाली बदरीनाथ पुलिस ने श्रद्घालुओं से भीख के नाम पर जबरन पैसा वसूलने वाले 30 भिखारियों को गिरफ्तार किया था। ये लोग पुराने पुल और यात्री शेड पर अतिक्रमण कर चुके थे।ये लोग एक गिरोह की तरह शातिराना काम करते थे। वहां से गुजरने वाले सभी यात्रियों को भीख देने केलिए तरह-तरह से मजबूर करते हैं।बता दें कि राज्यपाल की ओर से जारी अधिसूचना में उत्तर प्रदेश भिक्षावृत्ति प्रतिषेध अधिनियम, 1975 (अनुकूलन एवं उपांतरण आदेश, 2002) की धारा-एक की उपधारा- तीन में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोगकरते हुये जुलाई 2017 से पूरे उत्तराखंड में भिक्षावृत्ति पर पाबंदी लगायी गई है।पढ़ें-भीख ना देने पर ये देते हैं गालियां! भगवान के नाम पर धमकाने वाले गिरफ्तार2011 की जनगणना के अनुसार राज्य में 274 बच्चोंसहित 3 हजार भिखारी हैं। पिछले दो-तीन सालों में राज्य में भिखारियों की संख्या बढ़ी है। खासकर देहरादून, हरिद्वार, ऋषिकेश और नैनीताल में इनकी तादाद काफी बढ़ी है।इस अधिनियम के तहत पुलिस को अधिकार है कि वो गलियों में भीख मांग रहे लोगों को गिरफ्तार कर सकते हैं। हालांकि, देश के कई राज्यों में भीख मांगने पर प्रतिबंध है फिर भी आर्थिक वृद्धि के बावजूद सालों में भिखारियों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी: मुख्यमंत्री रावत ने 1 अरब 39 करोड़ 61 लाख की लागत के 39 कार्यो का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया।

उत्तरकाशी/सनसनी सुराग प्रदेष के माननीय मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह