तोशाम विधानसभा के 15 गांवों के लोग सरकारी स्कूल और मोहल्ला क्लीनिक देखने दिल्ली पहुंचे

तोशाम विधानसभा के 15 गांवों के लोग सरकारी स्कूल और मोहल्ला क्लीनिक देखने दिल्ली पहुंचे

- in article, Haryana, states
38
0

तोशाम विधानसभा के 15 गांवों के लोग सरकारी स्कूल और मोहल्ला क्लीनिक देखने दिल्ली पहुंचे 
– अपने तोशाम दौरे पर केजरीवाल ने यहां के लोगों को दिल्ली आकर सरकारी स्कूल और मोहल्ला क्लीनिक देखने के लिए आमंत्रित किया था 

Sunil Verma 

चंडीगढ़। हरियाणा के सियासी अखाड़े में पहली बार स्कूलों-अस्पतालों को लाने की अरविंद केजरीवाल की रणनीति जनता को खूब पसंद आ रही है। इसी का नतीजा है कि अब हरियाणा के गांव-देहात से लोग दिल्ली के सरकारी स्कूल और मोहल्ला क्लीनिक देखने जा रहे हैं। इसी क्रम में, तोशाम विधानसभा के 15 गांवों के लोग दिल्ली के सरकारी स्कूल और मोहल्ला क्लीनिक देखने पहुंचे। तोशाम विधानसभा के गांवों के लोगों का दिल्ली जाकर वहां के सरकारी स्कूल और मोहल्ला क्लीनिक देखना, इसलिए भी अहम है क्योंकि यह कांग्रेस विधायक दल की नेता किरण चौधरी का क्षेत्र है। इस क्षेत्र में आम आदमी पार्टी बहुत तेजी से सक्रिय हो रही है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी कुछ दिन पहले यहां का दौरा कर चुके हैं।

आम आदमी पार्टी के जिलाध्यक्ष पवन हिंदुस्तानी ने बताया कि तोशाम विधानसभा के नंगला, बागनवाला, पत्तरवाली, खेरपुरा, गोलागढ़, जुई, चन्दाबास, मंसरबस, डाडम, खानक, पिंजोखरा, आलमपुर, खरकड़ी मख्वान, तोशाम, रिवासा और सांगवान गांवों से लोग दिल्ली के सरकारी स्कूल और मोहल्ला क्लीनिक देखने गये। उन्होंने ये भी बताया कि तोशाम विधानसभा के लोगों के बुलावे पर केजरीवाल यहां आए थे। यहां के कई स्कूलों को देखा था और लोगों को संबोधित भी किया था। तब केजरीवाल ने यहां के लोगों को दिल्ली आकर सरकारी स्कूल और मोहल्ला क्लीनिक देखने के लिए आमंत्रित किया था। इसके बाद यहां के 15 गांवों के लोग दिल्ली गये।

दिल्ली जाने वालों में से एक रिवासा गांव के करतार सिंह कहते हैं कि हम लोग सोच भी नहीं सकते कि सरकारी स्कूलों में भी इतनी अच्छी सुविधाएं हो सकती हैं। हम लोगों ने वहां स्कूल के आसपास स्थानीय लोगों ने बात भी की। लोगों ने बताया कि पहले दिल्ली के सरकारी स्कूलों की हालत बहुत खराब थी लेकिन केजरीवाल सरकार आने के बाद इनका कायाकल्प हो गया है। 
नंगला गांव के पूरन सिंह कहते हैं कि हमारे हरियाणा सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे बहुत प्रतिभाशाली हैं। हमारे यहां के शिक्षक भी बहुत अच्छे हैं। लेकिन खट्टर सरकार, हमारे सरकारी स्कूलों में सुविधाएं नहीं दे पाई। केजरीवाल ने अपने यहां के सरकारी स्कूल चमका दिये। दिल्ली के सरकारी स्कूलों के बच्चे स्मार्ट क्लासरूम में पढ़ाई करते हैं और हमारे यहां के बच्चों को बैठने के लिए क्लासरूम में बेंच तक नहीं होती। खट्टर और केजरीवाल में यही फर्क है।
डाडम गांव के सत्यवान कहते हैं कि स्कूलों के साथ-साथ हमने दिल्ली सरकार के मोहल्ला क्लीनिक भी देखे। वहां हर टेस्ट फ्री होता है। सारी दवाइयां फ्री मिलती हैं। एमबीबीएस डॉक्टर इलाज करता है। खट्टर सरकार की डिस्पेंसरियों का तो बुरा हाल है। मजबूरन आदमी प्राइवेट अस्पतालों में जाता है और इलाज के नाम पर लुट जाता है। दिल्ली के सरकारी स्कूल और मोहल्ला क्लीनिक देखने के बाद हम तो यही कह सकते हैं कि केजरीवाल ने वाकई में आम आदमी की जरूरतों को समझा है और उनके लिए काम किया है।
जुई के भूपेंद्र कहते हैं कि हम तो सरकारी स्कूलों और मोहल्ला क्लीनिक की वीडियो और फोटो भी ले आए हैं। ये वीडियो और फोटो अब हम अपने गांव और परिचितों को भी दिखाएंगे ताकि जो लोग दिल्ली नहीं जा सके, उन्हें भी पता चल सके कि सरकारी स्कूलों और सरकारी अस्पतालों को सुधारा जा सकता है। इसके लिए बस केजरीवाल जैसा मुख्यमंत्री होना चाहिए।

 

पूरे हरियाणा से लोग दिल्ली के सरकारी स्कूलों और मोहल्ला क्लीनिकों को देखने जाते रहेंगे : नवीन जयहिंद

मनोहर लाल खट्टर तो केजरीवाल से डर गये और दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिक देखने नहीं गये। लेकिन हमारे लिए खुशी की बात ये है कि अब हरियाणा के गांव-देहात के लोग दिल्ली के सरकारी स्कूलों और मोहल्ला क्लीनिकों को देखने जाने लगे हैं। केजरीवाल ने हरियाणा के लोगों में नई उम्मीद जगा दी है। अब लोगों को समझ आने लगा है कि अगर 3 साल में केजरीवाल ने दिल्ली के स्कूल-अस्पताल ठीक कर दिये तो खट्टर ने 4 साल में क्यों नहीं किया। यही, खट्टर साहब की डर की बड़ी वजह है। आने वाले वक्त पूरे हरियाणा से लोग दिल्ली के सरकारी स्कूलों और मोहल्ला क्लीनिकों को देखने जाते रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

शशिकांत दास बने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के नए गवर्नर

डॉ रणवीर सिंह वर्मा उर्जित पटेल के इस्तीफे