स्वामी विवेकानन्द की साधना स्थलो को पर्यटन सर्किट के रूप में विकसित करना होगा- डा0 के0के0 पाॅल।

स्वामी विवेकानन्द की साधना स्थलो को पर्यटन सर्किट के रूप में विकसित करना होगा- डा0 के0के0 पाॅल।

- in Almora
34
0
अल्मोड़ा 15 जुलाई, 2018
जनपद में विभिन्न स्थानो पर स्थित स्वामी विवेकानन्द की साधना स्थलो को पर्यटन सर्किट के रूप में विकसित करना होगा यह बात प्रदेश के राज्यपाल डा0 के0के0 पाॅल ने आज काकड़ीघाट में विवेकानन्द ज्ञान वृक्ष शिक्षावृत्ति और काकड़ीघाट प्रकल्प के शुभ अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने अपने भारत भ्रमण के दौरान जनपद के अनेक स्थानो पर रहकर जो ज्ञान प्राप्त किया उसका व्यापक प्रचार-प्रसार हो सके इस उददेश्य से राजकीय इण्टर कालेज नौगाॅव में पुस्तकालय की स्थापना हेतु एक लाख रू0 देने की घोषणा की।  राज्यपाल ने कहा कि इस पुस्तकालय की स्थापना होने और वहाॅ पर पठन सामग्री रखने से बच्चों को स्वामी विवेकानन्द सहित अनेक महापुरूषों के बारे में जानकारी प्राप्त हो सकेगी। उन्होंने कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्जवलित कर किया।
 राज्यपाल ने अपने सम्बोधन में कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने शिक्षा के उन्यन हेतु मातृभाषा को बढ़ावा देने के साथ-साथ संस्कृत व अंग्रेजी भाषा का भी ज्ञान रखने की बात कही। उन्होने कहा कि स्वामी विवेकानन्द जी ने कहा था कि संस्कृत शिक्षा से जहाॅ एक ओर हमें वेद पुराणों का ज्ञान होगा वहीं दूसरी ओर अंग्रेजी भाषा के ज्ञान से विदेशो में हो रहे तकनीकी विकास के बारे में जानकारी मिल सकेगी। महामहिम ने कहा कि पर्यटन सर्किट से जोड़ने से जहाॅ एक ओर स्वामी विवेकानन्द से जुड़े अनुयायी यहाॅ पर आकर उनके बारे में जान सकेंगे वही दूसरी ओर यह क्षेत्र पर्यटन के क्षेत्र में आगे बढ़ सकेगा।
 राज्यपाल ने कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने अपने भारत भ्रमण के दौरान लिखी पुस्तक में पहाड़ो के बारे में जो बात लिखी है उससे इस देवभूमि का मान और भी बढ़ जाता है। स्वामी विवेकानन्द ने शिकागो में आयोजित  धर्म संसद में दिये गये अपने भाषण में अपने भारत भ्रमण के दौरान जनपद में स्थित साधना स्थलों में प्राप्त ज्ञान का भी उल्लेख किया है। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने अपने भाषण के दौरान भारतीय सभ्यता और संस्कृति की प्रशंसा की और विदेश के लोगो का ध्यान यहाॅ की संस्कृति के प्रति आकृष्ट किया। स्वामी विवेकानन्द को यूथ आइकन के रूप में जाना जाता है इसलिए उनके इस स्मृति में युवा दिवस भी बनाया जाता है। आज उन्होंने रामकृष्ण कुटीर एवं विवेकानन्द सेवा समिति काकड़ीघाट द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में विवेकानन्द ज्ञान वृक्ष शिक्षावृत्ति और काकड़ीघाट प्रकल्प की श्रंखला में परिसर में एक आॅवला वृक्ष का रोपण किया। इससे पूर्व उन्होंने 15 जुलाई, 2016 को बोध वृक्ष प्रतिरूप पीपल के पौधे का रोपण किया था उसमें पानी चढ़ाया। इस कार्यक्रम में श्री राज्यपाल ने स्थानीय 13 प्राथमिक विद्यालयों एवं 02 इण्टर कालेजो के छात्र-छात्राओं को स्कूल बैग एवं अन्य पाठय सामग्री भी वितरित की। उन्होंने कहा कि हम सभी को स्वामी विवेकानन्द के आदर्शो पर चलकर देश को एक सही दिशा में आगे बढ़ाना होगा।
इस कार्यक्रम में प्रदेश के मा0 महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास राज्यमंत्री रेखा आर्या ने अपने सम्बोधन में  राज्यपाल का स्वागत करते हुए कहा कि हमारा सौभाग्य है कि प्रदेश के महामहिम राज्यपाल ने यहाॅ आकर इस कार्यक्रम में भाग लिया। उन्होंने कहा कि कण्डारखुआ क्षेत्र के समग्र विकास के लिए प्रदेश सरकार कृत संकल्प है। उन्होंने शिक्षा गुणात्मक सुधार लाने के साथ-साथ क्षेत्र के विकास के लिए एकजुट होने की अपील लोगो से की। राज्यमंत्री ने कहा कि इस क्षेत्र को पर्यटन सर्किट से जोड़ने के साथ-साथ फल व सब्जी पटटी से भी जोड़ने की हमारी प्राथमिकता है साथ ही स्थानीय जो अन्य समस्यायें है उनका भी समाधान प्राथमिकता से किया जायेगा। इस अवसर पर स्वामी विवेकानन्द सेवा समिति के अध्यक्ष हरीश परिहार ने महामहिम का स्वागत करते हुए क्षेत्र की अनेक समस्याओं के बारे में बताया और कहा कि यह समिति निरन्तर नये-नये कार्यों को आगे बढ़ायेगा। उन्होंने महामहिम राज्यपाल और राज्यमंत्री को स्मृति चिन्ह् भी भेंट किया। इस अवसर पर रामकृष्ण कुटीर के स्वामी सोमदेवानन्द ने आभार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश के महामहिम राज्यपाल ने जो रूचि काकड़ीघाट के प्रति दिखायी वह हम सबके लिए प्रेरणादायी ही नहीं अनुकरणीय है। इस अवसर पर ग्राम प्रधान नौगाॅव ने एक अभिनन्दन पत्र भी भेंट किया जिसमें उन्होंने क्षेत्र की समस्याओं के समाधान की बात की।
इस कार्यक्रम में नगरपालिका के पूर्व अध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी, क्षेत्र के कवि देवकी नन्दन काण्डपाल, विवेकानन्द सेवा समिति से जुड़े स्वामी शान्ति कुमार घोष, श्रीमती ज्योति राणा, पूर्व ब्लाॅक प्रमुख धन सिंह रावत, सुन्दर सिंह मोहन सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पी0 रेणुका देवी, संयुक्त मजिस्ट्रेट रानीखेत हिमाशंु खुराना, उपजिलाधिकारी विवेक राय, तहसीलदार नितेश डाॅगर, उप पुलिस अधीक्षक वीर सिंह, जिला शिक्षाधिकारी माध्यमिक एच0बी0 चन्द्र, उप खण्ड शिक्षाधिकारी गीतिका जोशी, स्थानीय विद्यालयों के प्रधानाचार्य सहित अन्य लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन विशन सिंह कनवाल ने किया।
प्रभारी अधिकारी विशिष्ट अभ्यागत ने बताया कि मा0 केन्द्रीय कपड़ा राज्यमंत्री अजय टम्टा दिनाॅक 16 जुलाई को इस जनपद के भ्रमण पर आ रहे है। उन्होंने बताया कि वे 16 जुलाई को प्रातः 7ः45 बजे यहाॅ से प्रस्थान स्थानीय कार्यक्रमों में प्रतिभाग करने के बाद काटली में कोसी पुर्नजनन अभियान में प्रतिभाग करेंगे और सांय 3ः00 बजे वहाॅ से काठगोदाम के लिए प्रस्थान करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पूर्व प्रधानमंत्री स्व अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थि विसर्जन यात्रा आज भल्ला स्टेडियम से शुरू होकर हरकी पैड़ी हरिद्वार पहुंची।

हरिद्वार। पूर्व प्रधानमंत्री स्व अटल बिहारी वाजपेयी की