आज आया सालंग गांव का वसंत, ग्रामीण बोले धन्यवाद गोपाल सिंह रावत जी

आज आया सालंग गांव का वसंत, ग्रामीण बोले धन्यवाद गोपाल सिंह रावत जी

- in article, states, Uttarakhand, Uttarkashi
52
0
@admin
  • सांतोष साह

गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग के थेरांग स्टेशन पर उतरते ही दूर उंचाई पर एक गांव दिखता है, सालंग। गांव तक पहुंचने के लिए घने जंगल से खड़ी दुर्गम तीन से चार किमी की पैदल चढ़ाई चढ़नी पड़ती है। गांव में खेती बाड़ी भी होती है लेकिन नकदी फसल को सड़क तक पहुंचना फसल की कीमत से कई बार ढुलान अधिक हो जाती है। ग्रामीणों के लिए सड़क एक सपना भर थी, लेकिन अब सड़क का सपना गंगोत्री विधायक गोपाल सिंह रावत जी व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी के प्रयासों से हकीकत में तब्दील हो रहा है।

कल देर शाम जब गंगा नदी का पार कर सड़क खोदने के लिए थेरांग में जेसीबी पहुंचती तो सालंग के ग्रामीण खुशी से झूम उठे। सड़क बिना आजादी के 73 वसंत देख चुके ग्रामीणों के लिए गंगोत्री विधायक गोपाल सिंह रावत ने इस वसंत को खास बना दिया। लंबे समय से सड़क वन भूमि प्रस्ताव में लंबित थी, विधायक गोपाल सिंह रावत जी ने वन भूमि प्रस्ताव को स्वीकृति दिलवाने के लिए दिनरात दौड़धूप की, निर्माणदायी एजेंसी, वन विभाग, नोडल, राज्य सरकार, वन एवं पर्यावरण मंत्रालय के बीच लगातार घूमने वाले प्रस्ताव की गति को तेज की।

हर दिन इस प्रस्ताव का फाॅलोअप किया। विधायक जी का अथक प्रयास का नतीजा है कि यह वसंत सालंग के ग्रामीणों की जिंदगी में बहार ले आया। कल जब थेरांग में जेसीबी सड़क की कटान करने के लिए पहुंची तो यह मौका कभी न भूलने वाला था। तत्कालीन केंद्र की कांग्रेस सरकार ने इस क्षेत्र पर ईको सेंसेटिव जोन जैसा काला कानून थोपा जिसकी वजह से क्षेत्र में सड़क जैसी बुनियादी जरूरतों का निर्माण बेहद जटिल हो चुका है, शुक्र है कि गंगोत्री ने अपने प्रतिनिधि के तौर पर गोपाल सिंह रावत जी को चुना जो इस जटिल प्रक्रिया में भी सड़कों के निर्माण की राह खोज रहे हैं। हर गांव को सड़क से जोड़ने की मुहिम में जुटे गोपाल सिंह रावत जी पर गंगोत्री विधानसभा गर्व करती है।
सालंग के बाद अब जल्द ही विधान सभा के सबसे दुर्गम गांव पिलंग में भी सड़क का कार्य शुरू हो जाएगा।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी : नवरात्रि में दुर्गा भवानी का गढ़वाली भजन खूब प्रचारित होने के साथ भक्तों को भा रहा है,गीत व स्वर दिए हैं कैलाश सेमवाल ने

संतोष साह इन दिनों नवरात्र चल रहे हैं।