सहारनपुर: स्वछता अभियान को पलीता लगा रहे अधिकारी, गलियां हुई जलमग्न।

सहारनपुर: स्वछता अभियान को पलीता लगा रहे अधिकारी, गलियां हुई जलमग्न।

- in Saharanpur
55
0

मनोज धनगर/सहारनपुर

नकुड़ सहारनपुर स्वछता अभियान को पलीता लगा रहे अधिकारी गांव दर साफ सफ़ाई का दावा करने वाले अधिकारियों की पोल खोलता गांव रणदेवा का तालाब ग्राम प्रधान का दावा डीएम तक से शिकायत के बावजूद नही हट सके अवैध कब्जे
बीडीओ ने कहा कब्जे हटवाना तहसील प्रशासन का काम
लोगो के अवैध कब्जों के चलते गांव में नही हो रही
पानी की निकासी
गाँव के तीनों तालाबो की भूमि पर लोगो ने कर रखे अवैध कब्जे
ब्लॉक व राजस्व विभाग एक दूसरे की जिम्मेदारी बताकर झाड़ रहे अपना पल्ला
गंदगी से भरे पानी के बीच मे बाल्मीकि बस्ती के मकान गिरे बारात घर मे रहने को मजबूर है गांव के लोग कागजो में ही निपटा दिया स्वछता अभियान का कार्य
तहसील दिवसों में प्रार्थना पत्रों पर भी नही हो सकी कोई कार्यवाही
गोरतलब है कि तहसील मुख्यालय से 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित प्यारे जी महाराज की कर्मस्थली से जाना जाने वाला गांव रणदेवा अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है
गांव के यशपाल, संदीप, देवी सिंह, सोहनपाल, बिजेंद्र आदि ग्रामीणों का कहना है कि कागजो में ही कर दिया स्वछता अभियान का कार्य दर्जनो बार शिकायत के बाद भी कोई कार्यवाही नही हो रही है
गांव के नानक रेणु मंजू आदि का कहना है कि लोगो ने तालाब की भूमि पर अवैध कब्जे कर मकान बना लिए है जिससे बरसात का सारा पानी सड़को पर ही बहता है
उन्हें खुद गंदे पानी से होकर गुजरना पड़ता है इतना ही नही उक्त जल भराव से कई मकान गिरने की हालत में हो गए जिस कारण कुछ परिवार बारात घर में रहने को मजबूर है
ग्राम प्रधान कविता के पति विजयपाल भट्ट का कहना है कि तीनों तालाबो के 56 बीघा भूमि में से लगभग 25 बीघा भूमि ही तालाब में सिमटकर रह गयी है
जिससे गांव में खासकर बाल्मीकि बस्ती के लोगो को बहुत ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ रहा है
सरकार की लाख कोशिश के बावजूद भी स्वछता अभियान व अवैध कब्जे को हटवाने वाले अभियान को यह तस्वीर पलीता लगाने के लिए काफी है
जहाँ अधिकारी रोज रोज बैठकों में स्वछता अभियान गांव होगा साफ की दुहाई देते नही थकते वही अभियान को कागजो तक सीमित रखने वालों के विरुद्ध कब कार्यवाही होगी यह समझ से परे है
वही इस सबन्ध में जब एसडीएम नकुड़ युगराज सिंह से पूछा गया तो उन्होंने तालाब की साफ सफाई का कार्य बीडीओ से पूछने की बात कही वही जब बीडीओ शौकत अली से पूछा तो उन्होंने सारा दोष तहसील प्रशासन के सर मढ़ते हुए कहा कि कब्जे
हटवाना तहसील प्रशासन का काम है हम इसमें क्या कर सकते है
कुल मिलाकर अधिकारियों का गैर जिम्मेदाराना बयान इस बात की ओर इशारा करता है कि मोदी योगी लाख सिस्टम को लाख सुधरने का दावा करे पर अधिकारी सरकार की मंशा पर पलीता लगाने से गुरेज नही कर रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

प्राथमिक विद्यालय बदलूगढ़ कैराना में बाल दिवस को बड़ी धूमधाम से मनाया गया

सनसनी सुराग न्यूज जनपद शामली राकेश सैनी व