उत्तरकाशी : पालिका चुनाव : 3 जी : गौ,गंगा और गंदगी का मुद्दा गायब

उत्तरकाशी : पालिका चुनाव : 3 जी : गौ,गंगा और गंदगी का मुद्दा गायब

- in article, states, Uttarakhand, Uttarkashi
174
0
@admin
  • संतोष साह / उत्तरकाशी

मोहल्लों और वार्डों के विकास के बीच धार्मिक नगरी के असल मुददे गायब हैं। उत्तरकाशी धार्मिक नगरी होने के साथ ही काशी विश्व्नाथ के शरण मे बसी है। धार्मिक आस्था होने के साथ ही गंगोत्री और यमुनोत्री की प्रवेश द्वार भी है। दर्जनों मंदिर इस बात के गवाह हैं कि उत्तरकाशी नगर का धार्मिक स्वरूप कायम रहने के साथ ही गौ का सरंक्षण औऱ गंगा की निर्मलता बनी रहे और उस पर गंदगी की चोट न लगे।

उत्तरकाशी मे गंगा एक लंबे समय से पीड़ा झेलती आ रही है। नगर उत्तरकाशी समेत इसके नदी पार के एरिया जो कि अब पालिका मे आ चुके हैं की तमाम गंदगी औऱ कई गंदे नाले गंगा के हवाले हो रहे हैं। कई स्थानों में मालवा सीधे गंगा मे उड़ेला जा रहा है।

नदी में बह रहे प्लास्टिक कचरे का गवाह जोशियाड़ा का जलाशय है जहां झील मे तैरती गंदगी साफ नजर आती है। इसके अलावा अन्य तरह की गंदगी बी गंगा की शरण मे है। गंगा को प्रदूषण और गंदगी से बचाने के अब तक ठोस प्रयास की विफलता ही गंगा की पीड़ा है। नगरपालिका एरिया में आवारा पशु यानि गायों का संरक्षण और उनकी हिफाजत भी एक बड़ा प्रश्न है। पालिका ने पैसा खर्च कर जो काऊ सेट बनाया भी है वह भगवान भरोसे है।

जानकारी के मुताबिक कुछ समय पूर्व उक्त काऊ सेट मे कुछ आवारा गाय पालिका ने रखी लेकिन उनकी समुचित देखभाल न हो पाने के नतीजन दो पशुओं ने दम तोड़ दिया। नगर समेत अब जोशियाड़ा इलाके मे भी कई आवारा पशु घूम रहे हैं और लोगों की जहां तहां फेंकी गंदगी खाने को विवश हैं। गंदगी के हालात तो बहुत बुरे है। कोई जगह ऐसी नही जहा गंदगी के ढेर न लगे हों। स्वच्छता अभियान भी यहाँ फुस्स है। ट्रेचिंग ग्राउंड का मुद्दा आज तक हल नहीं हो पाया है। कूड़े के ढ़ेर कहीं भी न लगे इसका विरोध हो रहा है।

तेखला के लोग गंदगी के ढेर से परेशान हैं। पालिका की जो जिम्मेदारी बनती थी कि वह गंदगी से तो कम से कम निजात दिलाये लेकिन कूड़ा निस्तारण मे पालिका फैल रही है। कुल मिलाकर न तो पालिका की आज तक कम्पक्टर मशीन आई और न ही पालिका मे खड़े जटायु काम आए। इस बीच एक बार फिर नई पालिका गठित होनी है प्रश्न फिर वही क्या नगर वासियो को गंदगी से निजात मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी : नगर उत्तरकाशी में शराब ठेका बंद होने से कोई फर्क नहीं,फर्क है शराब कहाँ से निकल औऱ बिक रही

संतोष साह / उत्तरकाशी उत्तरकाशी नगर में शराब