उत्तरकाशी : पालिका के हाथ नहीं पड़ी वरना सौदा पक्का था..

उत्तरकाशी : पालिका के हाथ नहीं पड़ी वरना सौदा पक्का था..

- in states, Uttarakhand, Uttarkashi
371
0
@admin
  • संतोष साह / उत्तरकाशी

उत्तरकाशी। बस अड्डे की पुलिस चौकी औऱ उसमे पड़ी खाली जमीन पर भी बोर्ड के रहते पालिका की गिद्ध दृष्टि थी। सूत्र बताते हैं कि पहले जिस तरह सब्जी मंडी बनाने के लिए पालिका ने जो प्लान बनाया था वह अगर कामयाब हो जाता तो उसके बाद पुलिस चौकी का भी नंबर था इसके लिए पालिका बोर्ड़ मे प्रस्ताव भी लाने की तैयारी मे भी थी लेकिन पालिका के इस काम मे पानी फिर गया।

बताते हैं कि पुलिस चौकी की जमीन मे पुलिस चौकी को भी बने रहने देने के साथ ही यहां भी पालिका काम्प्लेक्स बनाने की फिराक मे थी लेकिन निवर्तमान बोर्ड़ का सपना अधूरा रह गया। इस स्थान मे जो पालिका ने जो प्लान बनाया था उसमें ग्राउंड फ्लोर मे पुलिस चौकी चमक कर पूरे स्पेस मे बरकरार रहती और फर्स्ट फ्लोर मे शॉपिंग काम्प्लेक्स बनते जो कि गंगोत्री हाइवे से लगे होते, यानि इस जगह पर भी पालिका काम्प्लेक्स के नाम पर वारे न्यारे की पूरी फिराक मे थी।

पालिका से जुड़े रहे कुछ खास लोगों की माने तो काम्प्लेक्स बनने की सुगबुगाहट होते ही इसकी मुह बोली भी लगनी शुरू हो गई थी। वैसे यह बात भी किसी से छुपी नही है कि पालिका के निवर्तमान बोर्ड मे चाहे वह पुराने शॉपिंग काम्प्लेक्स का मामला हो या फिर आवासीय भवनों का उसमे घपला प्रकाश मे न आया हो ।एक युवा नेता ने पालिका के इन्हीं घपलों को लेकर जो आंदोलन किया और जांच की मांग की उसने भी पालिका की हकीकत का पर्दा खोला।

सब्जी मंडी का खेल भी किसी से अब छुपा नहीं है। आवासीय आवंटन मे इससे बडी शर्मनाक बात और क्या हो सकती है कि प्लॉक का ईओ खुद अपने आवास से बेदखल रहा और उसका आवास कब्जे मे रहा। ऐसी परिस्थितियों में यदि काम्प्लेक्स पुलिस चौकी मे बन जाते तो नजारा क्या होता। पुलिस चौकी के समीप सड़क तंग है और यहां से बाजार को टर्न लेने मे भी दिक्कत है जिसे देखते हुए निवर्तमान बोर्ड़ से पहले के बोर्ड़ के एक सभासद ने इस चौक को जहा अब नंदी विराजमान है उसे खोलने की नसीहत दी थी और इसके लिये पालिका बोर्ड मे प्रस्ताव भी दिया था लेकिन उसे रददी मे डाल दिया गया। यदि यह प्रस्ताव पास होता तो आज जाम की स्थिति पैदा नही होती और मार्किट की ओर गाड़िया भी आसानी से टर्न ले लेती। बहरहाल अब यह सब कुछ मुश्किल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

देहरादून : बेरोजगारी दूर करने मददगार साबित होगा पिरूल : CM

देहरादून मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि