उत्तरकाशी : नगर निकाय के चुनाव में नगर पालिका के भ्रष्ट कारनामो पर मुँह खुला

उत्तरकाशी : नगर निकाय के चुनाव में नगर पालिका के भ्रष्ट कारनामो पर मुँह खुला

- in Other Updates
174
0
@admin
  • संतोष साह/ उत्तरकाशी

निवर्तमान पालिका बोर्ड बाडाहाट ने घपले कर खुद अपने पांव मे कुल्हाड़ी मारी है और चुनावी बयार मे दूसरों को हलवा थमा दिया।

नामांकन के अंतिम दिन पालिका के भ्रष्ट कारनामो की भी सुर्खियां रही। उत्तरकाशी नगर को स्वछ औऱ मिशाल के तौर पर पेश करने के जहाँ वादे हुए तो वही निवर्तमान पालिका के कार्यकाल मे घपलों की बरसात को भी नगर पालिका की राह देख रहे लोगों ने भुनाया। जाहिर है कि पालिका मे अबकी बार खड़े उमीदवारों को यह मुद्दा बैठे बिठाये मिल गया है।

राजनीतिक सूत्रों की माने तो यदि कार्यकाल के अंतिम समय मे निवर्तमान पालिका पर भ्रस्टाचार के मामले उजागर होने के साथ ही मामले दर्ज न होते तो निवर्तमान पालिका की चेयरमैन भी चुनाव मैदान मे होती। नगर पालिका मे कथित घपलों को लेकर शुरुआती दौर मे जिसने आवाज उठायी वे भी चेयरमैन के दावेदार है औऱ नामांकन कर चुके हैं, तब वे लोग नदारद थे जो आज मैदान मे हैं। पालिका मे गड़बड़ी औऱ नगरवासियो के साथ नाइंसाफी को लेकर तब सडक मे कोई नही उतरा वरना नजारा कुछ और होता।

सवाल सबसे बड़ा अब भी लोगों के जेहन मे है और चर्चाओं में भी है कि आंखिर घपले को लेकर मात्र निवर्तमान चैयरमैन पर मामले दर्ज करने के अलावा पालिका के अंदर घपलों मे संलिप्त और लोग छुट्टे कैसे घूम रहे हैं। गौरतलब है कि पालिका मे निर्माण, भुगतान या फिर अन्य कार्यो मे लास्ट नोटिंग से लेकर भुगतान तक मे फाइनल सिग्नेचर चेयरमैन औऱ ईओ का होता है। इसके अलावा निचले स्तर पर भी जिम्मेदारी के लिए संबंधित कर्मी होते हैं।

पालिका मे सीटी बस घोटाला, टायर घोटाला, आवास घोटाला, सब्जी मंडी घोटाला, कूड़ा फेंकने की ठेली मे गड़बड़ी से लेकर आवासों के आवंटन मे ग़ैरजरूरतमंदों को लाभ पहुंचाने जैसे कई आरोप सार्वजनिक हुए वह इस चुनाव मे उमीदवारों को जनता के बीच जाने और इसे भुनाने का और क्या कहें तथा कहाँ से शुरुआत कर करें एक अच्छा मुद्दा जरूर मिल गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

शामली जनपद की कमान मृदुभाषी एवं व्यवहार कुशल पुलिस कप्तान अजय कुमार के हाथों में

 कप्तान डा. अजय पाल शर्मा एवं दिनेश कुमार