Exclusive : उत्तरकाशी : नगर पालिका का एक और कारनामा,शमशान घाट में अवैध निर्माण,प्रशासन ने किया सील

Exclusive : उत्तरकाशी : नगर पालिका का एक और कारनामा,शमशान घाट में अवैध निर्माण,प्रशासन ने किया सील

- in article, states, Uttarakhand, Uttarkashi
1173
0
@admin
  • संतोष साह

उत्तरकाशी नगर पालिका सुर्खियों में है। इस बीच एक नगर पालिका का कारनामा सामने आया है। शमशान घाट जहां मोक्ष प्राप्ति के लिये इंसान पहुंचता है और जहाँ शांति होनी चाहिये वहां गुपचुप तरीके से अवैध निर्माण कर डाला। इस बीच प्रशासन को भनक लगी और उसने इस अवैध निर्माण को सील कर दिया है।
सूत्रों से जो जानकारी मिली है उसके तहत बाजार के किसी टेंट लगाने वाले कारोबारी के लिये यह जाल बुना गया।बताया जा रहा है कि इसमे कुछ पालिका कर्मियों की भी खासी मिलीभगत है।

गौरतलब है कि केदार घाट के शमशान घाट में जहां से अंत्येष्टि के लिये लोग लकड़ी लेते हैं, वन निगम के इस डिपो से सटकर अवैध निर्माण प्रगति पर था। यहाँ जिस टेंट लगाने वाले कारोबारी को बसाने की तैयारी थी उसे दो तरफा फायदा मिलता जिसमे एक तरफ टेंट स्टोर व दूसरी ओर फ्लड से बने काफी बड़े खाली हिस्से जिसमे लोग पार्किंग कर रहे हैं उसका लाभ भी मिलता। यानि शमशान घाट के नजदीक शहनाई बजाने की भी तैयारी थीं। सवाल सबसे बड़ा की फ्लड जोन वह भी सेंसिटिव एरिया में अवैध निर्माण कराना नियम के विरुद्ध है। 2012 और 2013 में बाढ़ आने के बाद नदी किनारे फ्लड एरिया वैसे भी लावारिश संपति नहीं है। जल विद्युत निगम या फिर सिंचाई विभाग में से किसी एक का स्वामित्व इस लैंड में है ताकि उनके द्वारा बाढ़ सुरक्षा की जा सके।


इस बीवः चर्चा है कि केदारघाट के शमशान घाट में अवैध कब्जे के साथ उसमे निर्माण को लेकर बड़ा गेम खेला गया। जिसकी भनक प्रशासन को भी लगी है। प्रशासन ने इस अवैध निर्माण को रोककर उसे सील कर दिया है। भटवाड़ी एसडीएम देवेंद्र सिंह नेगी ने बताया कि केदार घाट में निर्माण को सील कर दिया गया है। नगर पालिका को नोटिस भेजा गया है और जवाब देने के साथ ही वे कागज,प्रपत्र या अन्य कोई अनुमति के पत्र मांगे गए हैं जिससे वह शमशान घाट में निर्माण कर रहा था।
बहरहाल साफ है कि प्रशासन की अनुमति के किसी भी निर्माण वह भी फ्लड जोन में नहीं हो सकता ऐसे में जो कुछ हुआ उसके कागज का सवाल ही पैदा नहीं होता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पिथौरागढ़ के 136 परिवारों का गांव धापा धंस रहा,दरारें कर रही गांव छोड़ने को मजबूर,पुर्नवास के लिये 10 अगस्त को तहसील घेरने की दी चेतावनी

संतोष साह पिथौरागढ़ जिले का सीमांत गांव धापा