मंसूरा के प्राथमिक विद्यालय में अव्यवस्थाओं का बोलबाला, बच्चे स्कूल की दीवारों और छतों पर खेलते रहते हैं। कोई रोकने टोकने वाला न होने के कारण बच्चों का जोखिम बढ़ा रहता है ‌

मंसूरा के प्राथमिक विद्यालय में अव्यवस्थाओं का बोलबाला, बच्चे स्कूल की दीवारों और छतों पर खेलते रहते हैं। कोई रोकने टोकने वाला न होने के कारण बच्चों का जोखिम बढ़ा रहता है ‌

- in Other Updates
27
0

झिंझाना / तसलीम आलम

झिंझाना 10 अक्टूबर : मंसूरा का प्राथमिक विद्यालय पिछले काफी समय से अव्यवस्थाओं से जूझ रहा है । जिसमे अध्यापकों का सही समय पर न आना और बच्चों का स्कूल की दीवारों , छतों पर चढकर खेलना जोखिम भरा साबित हो रहा है ।

मिली जानकारी के अनुसार मंसूरा के प्राथमिक विद्यालय परिसर में ही प्राथमिक विद्यालय भी मौजूद है । विद्यालय में एक महिला अध्यापक तथा दो अन्य शिक्षामित्र बताए गए हैं बच्चों ने बताया कि अध्यापक अधिकांश रूप से स्कूल में विलंब से आते हैं उस दौरान बच्चे स्कूल की दीवारों और छतों पर खेलते रहते हैं ।वे शोचालय कि दिवाकर पर जिस वजह से उन्हें कोई रोकने टोकने वाला न होने के कारण बच्चों का जोखिम बड़ा रहता है ।
‌ इस संबंध में जब शिक्षा विभाग के एबीएसए से स्कूल का पक्ष जानना चाहा तो मोबाइल फोन स्विच ऑफ मिला। हां ग्रामीणों का इतना जरूर कहना है कि बच्चों की शिक्षा पर अध्यापकों का बिल्कुल ध्यान नहीं है । क्योंकि स्कूल समय के काफी बाद खुलता है जिसमें 10 से 11:00 तक का भी समय हो जाता है और दूसरी ओर जल्दी बंद हो जाता है ।‌

गांव के अयूब मिस्त्री , जाकिर , असलम , सत्तार , रियासत , काला , वाजिद , रियाज आदि लोगों ने अधिकारियों से इस विद्यालय की व्यवस्था को ठीक कर बच्चों को पढ़ाई जाने की मांग की है । इन सभी लोगों का कहना है कि अध्यापक समय पर स्कूल नहीं खोलते और न हीं बच्चों की पढ़ाई पर कोई ध्यान देते हैं । बल्कि गलत रास्तों पर रहते हैं । और अध्यापक आम लोगों के साथ में अभद्रता पर उतारू रहते हैं । प्राथमिक विद्यालय मे मोजूद शिक्षा मित्र सलीम बच्चों को गालियां देते है बच्चे क्या कर रहे है कुछ मतलब नहीं है।

 

 

गांव वाशियों का कहना है हम भी चाहते है हमारे बच्चे भी पढ़ें। हमे लगता है हमें अपने बच्चों को प्राइवेट में दाखला करवाना पडेगा।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

विश्व हाथ धुलाई दिवस के अवसर पर प्राथमिक विधालय बदलूगढ में प्रधानाध्यापक राकेश सैनी ने बच्चो को बताया हाथो की गन्दगी से होते है अधिकतर रोग

कैराना / विशाल भटनागर आज दिनाक 15/10/2019 को