उत्तरकाशी : कूड़े का विरोध ही बताएगा महापंचायत में की कूड़ा कहाँ डालें

उत्तरकाशी : कूड़े का विरोध ही बताएगा महापंचायत में की कूड़ा कहाँ डालें

- in article, Sports, Uttarakhand, Uttarkashi
284
0
@admin
  • संतोष साह /उत्तरकाशी

नगर उत्तरकाशी समेत इसके आसपास यानि पालिका अंतर्गत एरिया में फेंका जा रहा य्य फिर जमा हो रहा कूड़ा किसी एक ब्यक्ति का नही बल्कि सभी नगरवासियों का है। 10 फीसदी लोग यदि अपने कूड़े का स्वयं निस्तारण करते भी है तो 90 फीसदी लोगों के कूड़े में इसकी गिनती कौन करेगा? इसलिए कूड़े के सभी भागीदार है।
इस बीच कुछ समय के बाद कूड़े व गंदगी की स्थिति विकराल होने जा रही है यह पालिका पहले औऱ उसके बाद प्रशासन भी बखूबी जानता है। डंपिंग जोन मिलना मुश्किल है वह इसलिए कि हर तरफ से कूड़े के खिलाफ आवाज उठ रही है औऱ विरोध हो रहा है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जब नगर के कूड़े को नगर में ही एक स्थान में निस्तारण को लेकर विरोध पनप रहा है और हर जगह से कूड़े की मनाही हो रही है तो ऐसे में महापंचायत का सहारा लिया जा सकता है। लोक सभा चुनाव की आचार संहिता हटने के बाद इस बात पर महापंचायत हो सकती है कि जगह-जगह से कूड़े के विरोध में जो आवाज उठा रही है वही विरोध बताये की कूड़ा कहाँ पड़ना चाहिए।
नगर पालिका चेयरमैन रमेश सेमवाल से कूड़े की आने वाली स्थिति को जानना चाहा तो उनका कहना था कि प्रशासन भूमि उपलब्ध करा दे तो डंपिंग जोन औऱ कम्पेक्टर लगाने में देर नहीं। लेकिन जमीन उपलब्ध नही करायी जा रही है। भविष्य में यही हालात रहे तो क्या होगा के जवाब में उन्होंने भी माना कि अब तो नगरवासियो,नगर के जनप्रतिनिधियों के साथ राय मशविरा कर कूड़े के समाधान को लेकर हल होना चाहिए। उन्होंने आचार संहिता हटने के बात इस तरह की पैरवी की बात कही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी : गजब एक या दो तीन नहीं,नाल्ड गांव में 135 लोग वोटर लिस्ट से गायब

संतोष साह भटवाड़ी विकास खंड के नाल्ड गांव