उत्तरकाशी : कूड़े मे बलि का बकरा सिर्फ ईओ ही क्यों औऱ भी तो होंगे ?

उत्तरकाशी : कूड़े मे बलि का बकरा सिर्फ ईओ ही क्यों औऱ भी तो होंगे ?

- in article, states, Uttarakhand, Uttarkashi
161
0
@admin
  • संतोष साह / उत्तरकाशी

नगर के कूड़े से पर्यावरण को चोट पहुंचाने वाला कोई एक ही नहीं बल्कि इसके भागीदार और भी तो होंगे। सिर्फ ईओ नगर पालिका को बलि का बकरा बनाकर मामले मे कार्यवाही कर देने भर से और गुनहगार क्या छुट्टे घूमेंगे। गौरतलब है कि जिस तरह से नगर के कूड़े को गंगा समेत वन भूमि मे फेंके जाने के बाद जो नाराजगी सामने आयी है उसमें दोषी लोगों को दंडित करने की मांग उठ रही है।

पब्लिक ही नहीं बल्कि सरकार के प्रतिनिधि वह भी गंगोत्री विधायक गोपाल रावत तक प्रशासन और शासन से कूड़ा फिकवाने वाले पालिका के दोषी अधिकारियों और कर्मचारियों पर कठोर कार्यवाही की बात कर रहे हैं। इधर गंगा विचार मंच,नमामि गंगे से जुड़े लोंगो ने भी गंगा मे नगर के कचरे को डाले जाने को लेकर कहा है कि एक ओर जहां देश के प्रधानमंत्री गंगा को लेकर इसके ड्रीम प्रोजेक्ट को साकार करने की कोशिश मे हैं तो वही इस पर पलीता लगाने वालों को किसी भी दशा में माफ नहीं किया जाना चाहिए।
इस बीच कूड़े को लेकर सिर्फ ईओ पर मुकदमा या फिर कार्यवाही लोगों के गले नहीं उतर रही। चर्चा में कई अन्य को भी इसके लिए कसूरवार बताया जा रहा है। कूड़े को ठिकाने लगाने के दिन मे पालिका बोर्ड गठित नहीं हुआ था और तब पालिका मे प्रशासनिक बॉडी कार्य कर रही थी। प्रशासनिक बॉडी मे क्या अधिकारी क्या कर्मचारी सभी पालिका की जिम्मेदारी संभाले होते है। ऐसे मे सिर्फ ईओ का निर्णय नही हो सकता कि कूड़े को फलां -फलां जगह ठिकाने लगा दो अलबत्ता जरूर इस रणनीति मे पालिका के ऊपर से नीचे तक और भी शामिल होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी : तीन राज्यों में जीत के बाद कांग्रेसियों में ख़ुशी की लहर

उत्तरकाशी राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में सम्पन्न हुए